UIT की कुर्सी के चक्कर उलटा चलने लगा: सरकार की खींचतान में प्रदेश की सबसे खास कुर्सी भी खाली




अलवर23 मिनट पहले

अलवर UIT कार्यालय।

प्रदेश सरकार में चल रही खींचतान के चलते सबसे खास UIT अलवर चेयरमैन की कुर्सी भी खाली है। जबकि इस कुर्सी पर जिले के छोटे से लेकर बड़े से बड़े नेता की नजर है। विधायक हो या पार्टी का बड़ा पदाधिकारी। इस कुर्सी पर आने के लिए हर जतन में लगा है। लेकिन, सरकार के स्तर पर फैसला नहीं हो सका। बीच-बीच में सरकार के स्तर पर उठापटक बढ़ने से करीब साढ़े तीन साल से भी ज्यादासमय से कुर्सी खाली है।

UIT चेयरमैन के पास बड़े विकास के काम हाथ में

असल में अलवर UIT चेयरमैन की कुर्सी खास इसलिए है कि यहां से शहर में बड़े विकास के कार्य किए जा सकते हैं। पहले भी अलवर यूआईटी ने शहर में मिनी सचिवालय, ओवरब्रिज, रोड, पार्क, पेनोरमा, स्मारक सहित अनेक कामकाज कराए हैं। कुछ कार्यों में तो पूरा पैसा यूआईटी का लगता है। इस लिहाज से UIT की कुर्सी पर सबकी नजर है। यहां साल भर में करोड़ोें के काम होते हैं। प्रदेश भर की यूआईटी में सबसे अहम इसलिए भी है कि यहां की यूआईटी के पास खजाने में खूब पैसा है। वहीं भविष्य में भी काफी गुंजाइश है।

कुछ नेताओं के नाम चर्चा में भी रहे

पिछले दिनों कुछ नेताओं के नाम यूआईटी की कुर्सी के लिए चर्चा में भी रहे। जिनमें पूर्व चेयरमैन अजय अग्रवाल, अनिल जैन, विधायक बाबूलाल बैरवा, विधायक जौहरीलाल मीना, कृष्ण मुरारी गंगावत, बाबू झालानी सहित कई कांग्रेसियों के नाम चलते रहे हैं। लेकिन, अब कांग्रेस सरकार के डेढ़ साल भी पूरे नहीं बचे हैं। इस कारण अब धीरे-धीरे इस कुर्सी के प्रति उत्साह भी कम होने लगा है। जैसे अजय अग्रवाल खुद कहने लगे हैें कि अब जनता के हितों के काम करने के लिए अधिक समय नहीं मिलेगा। इसके लिए चेयरमैन बनने के प्रति उतना उत्साह नहीं है।

अब CM की कुर्सी का फैसला होना बाकी

अब यूआईटी अलवर की कुर्सी और अधिक दिनों तक खाली रह सकती है। असल में प्रदेश में सीएम की कुर्सी को लेकर फाइनल निर्णय नहीं हो सका है। कांग्रेस के नेताओं को हाईकमान के फैसले का इंतजार है। इस कारण अब हाइकमान के फैसले के बाद ही अलवर यूआईटी सहित अन्य नियुक्तियां हो सकेंगी। इस कारण अब अधिकतर नेता असमंजस में हैं। इस मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के जरिए सरकार को भेजे जाने वाले नाम पर ही मुहर लगनी है। लेकिन, अब आगे की राजनीति पर काफी कुछ निर्भर है।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.