सौभाग्यवती भव: प्रदेश में 9 से 14 साल की 55 लाख बेटियों को फ्री लगेगा सर्विक्स कैंसर का स्वदेशी टीका



जयपुर2 घंटे पहलेलेखक: सुरेंद्र स्वामी

  • कॉपी लिंक

26 मार्च को भास्कर में प्रकाशित

सर्विक्स कैंसर से मुक्त करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार साझा लड़ाई लड़ेगी। अगले साल से प्रदेश की 9 से 14 साल तक की उम्र की करीब 55 लाख बेटियों को सर्विक्स या सर्वाइकल (गर्भाशय ग्रीवा) कैंसर की निशुल्क स्वेदशी वैक्सीन लगाई जाएगी। सर्विक्स कैंसर को यूनिवर्सल इम्यूनाइजेशन प्रोगाम (यूआईपी) में शामिल करने के बाद निशुल्क टीकाकरण का रास्ता साफ हो गया है। हालांकि टीका कब से लगेगा, इसकी तिथि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से मिलने वाली वैक्सीन की संख्या और मौसम के हिसाब से तय होगी।

साथ ही बच्चों की परीक्षा को भी ध्यान में रखकर निर्णय लिया जाएगा। पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ओर से बनाए गए इस टीके को मंजूरी मिल चुकी है। इसके तीसरे फेज के ट्रायल भी हो चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने 9 नवंबर को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के दौरान राज्य के चिकित्सा विभाग के अफसरों को 9 से 14 साल तक की उम्र की लड़कियों की संख्या, कोल्ड स्टोरेज सेंटर, प्रशिक्षित स्टाफ और ट्रांसपोर्ट सुविधा की जानकारी मांगी है।

निदेशक जन स्वास्थ्य व आरसीएच के निदेशक डॉ. केएल मीणा के अनुसार, केन्द्र सरकार की ओर से 9 से 14 साल तक की उम्र की लड़कियों के सर्वाइकल कैंसर का टीका लगाया जाना प्रस्तावित है। महंगा टीका है। ब12 फीसदी से अधिक सर्विक्स कैंसर से पीड़ित हैं भारत में कुल कैंसर मरीजों में से। यह देश में दूसरा सबसे आम कैंसर।जट पर निर्भर है। पहले स्क्रीनिंग की जाएगी।

वैक्सीन जरूरी: हर साल देश में 1.5 लाख केस, 80 हजार मौतें इसी कैंसर से
04 हजार से 11 हजार रु. में सर्विक्स कैंसर के वैरिएंट का टीका।

  • अभी 9 से 14 साल तक की लड़कियों को दो और इससे अधिक उम्र पर तीन डोज लगवानी पड़ती हैं।
  • ह्यूमन पेपिलोमा वायरस (एचपीवी) का समय पर वैक्सीन लगाकर 90% मामलों में बच्चेदानी के मुंह के कैंसर से बचाया जा सकता है। देर होने या संक्रमण फैलने पर मौत हो सकती है। हर साल देश में करीब 1.5 लाख महिलाएं इसकी गिरफ्त में आती है। इनमें से करीब 80 हजार की मौत इलाज के अभाव या इलाज के दौरान हो जाती है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक सर्विक्स कैंसर दुनिया में महिलाओं को होने वाला चौथा आम कैंसर है। वर्ष 2020 में दुनियाभर में 6 लाख से ज्यादा मामले मिले। इनमें से 3.42 लाख मौतें हुईं। खास बात है कि 2020 में जितने मामले सामने आए थे, उनमें से 90% केस कम और मध्यम आय वाले देशों में आए थे।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.