विधायक की CI को लताड़, बोलीं- बेगुनाहों को कैसे पकड़ा: सांसद बेनीवाल के ट्वीट पर MLA बावरी थाने पहुंचीं, हंगामा किया



नागौर11 मिनट पहले

नागौर जिले में पिछले दिनों बजरी माफियाओं की ओर से टोल नाकों के ऑफिस में मारपीट और तोड़फोड़ के मामले में पुलिस की कार्रवाई को लेकर सांसद हनुमान बेनीवाल ने मेड़ता पुलिस पर आरोप लगाए।

बेनीवाल ने ट्वीट कर कहा कि 6 थानों की पुलिस डांगावास की ढाणी पहुंच गई और बेगुनाह ग्रामीणों और महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया। इतना लवाजमा लेकर पुलिस हार्डकोर अपराधियों को गिरफ्तार करने जाती है।

रविवार को सांसद के इस ट्वीट के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। सांसद ने ट्वीट में लिखा था- नागौर जिले के आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस भारी लवाजमे के साथ जिस तरह हार्डकोर अपराधियों के खिलाफ कार्यवाही करने जाती है, उसी तर्ज पर गलत तरीके से मेड़ता क्षेत्र के डांगावास गांव के किसानों की ढाणियों में पहुंचकर अभद्रता के साथ निर्दोष किसानों व समाज की महिलाओं को बिना किसी अपराध के जबरन गाड़ियों में भरकर थाने ले गई। मेड़ता थाना अधिकारी सहित अन्य पुलिस अधिकारियों व पुलिस कार्मिकों ने एक व्यक्ति की गिरफ्तारी के बहाने प्रदेश के सबसे बड़े बजरी माफिया को खुश करने के लिए तांडव मचाया है, यह निंदनीय है।

सांसद बेनीवाल के ट्वीट के बाद विधायक इंद्रा बावरी पुलिस थाने पहुंच गईं। इसके बाद उन्होंने सीआई को जमकर लताड़ा।

सांसद ने प्रकरण को लेकर नागौर जिला पुलिस अधीक्षक से फोन कर किसानों और महिलाओं को रिहा करने व बोलेरो और ट्रेक्टर सहित अन्य जब्त किए गए वाहनों को भी छोड़ने की बात कही । सांसद के निर्देशों के बाद मेड़ता विधायक इंद्रा देवी बावरी भी रविवार देर शाम मेड़ता थाने पहुंची।

बावरी सीआई पर भड़क गईं। लताड़ लगाते हुए कहा- निर्दोष को कैसे पकड़ा। मेड़ता विधायक इंद्रा बावरी सांसद हनुमान बेनीवाल के ट्वीट के बाद थाने पहुंचीं थीं। सीआई रोशन लाल सामरिया से वे सवाल जवाब करने लगीं। विधायक बावरी सीआई पर भड़कते हुए उन्हें लताड़ लगाई। कहा कि जो निर्दोष है, उनको कैसे पकड़ सकते हैं।

विधायक ने कहा कि जो वास्तव में गुनहगार हैं उनको तो आप पकड़ नहीं रहे, जो उनके पड़ोस में रहते हैं उनको पकड़ कर ले आए, उन्हें छोड़िए। वहीं उनके पास जो रिश्तेदार गाड़ी लेकर आए थे उनको भी उठा लाए। ये गलत है। इस पर सीआई सामरिया ने कहा कि पुलिस ने कोई गलत काम नहीं किया। जो निर्दोष हैं उनको परेशान नहीं कर रहे। जो दोषी हैं उनको छोड़ेंगे नहीं।

पुलिस का कहना है कि नागौर जिले के मेड़ता क्षेत्र में शनिवार रात पुलिस पर हमला किया गया। पुलिस बजरी रॉयल्टी ठेकेदार की ओर से दर्ज कराए प्रकरण में वांछित को पकड़ने गई थी। इस दौरान उसके परिजनों ने वीडियोग्राफी कर रहे पुलिस के कर्मचारियों के साथ मारपीट और धक्का-मुक्की कर दी और उनका मोबाइल भी छीन लिया। इसी मामले में नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने ट्वीट कर पुलिस की कार्रवाई को लेकर सवाल उठाए।

पुलिसकर्मी के साथ की धक्क मुक्की और मारपीट
पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मेड़ता सिटी पुलिस थाने में 10 सितंबर को बजरी रॉयल्टी ठेकेदार ने रॉयल्टी नाके पर तोड़फोड़ और मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस उसी मामले के शनिवार रात को वांछित आरोपी राणेश को पकड़ने गई थी। सूचना मिली थी कि वह गांव में है। इस दौरान राणेश के परिजनों ने पुलिस के राजकार्य में बाधा डाली और पुलिस को तलाशी नहीं लेने दी। वीडियोग्राफी कर रहे पुलिस के कर्मचारी के साथ मारपीट और धक्का-मुक्की की। मोबाइल भी छीन लिया। जिस पर पुलिस ने राजकार्य में बाधा और पुलिस पर हमले का प्रकरण दर्ज किया। मेड़ता पुलिस ने घर के मुखिया बाबूलाल सहित सात-आठ अन्य नामजद लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर किया।

पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया था, वहीं आठ वाहनों को जप्त किया गया था। शनिवार रात को पुलिस पर हुए हमले के बाद रविवार को पुलिस ने अतिरिक्त जाब्ता बुलाया और घटनास्थल के निरीक्षण के लिए जाब्ते के साथ पहुंची। इस मामले में अनुसंधान प्रक्रिया के तहत पुलिस ने दो महिलाओं समेत 5 लोगों को निरोधात्मक कार्रवाई करते हुए 151 में गिरफ्तार किया। 8 वाहन भी जब्त किए। इनमें दो ट्रैक्टर, दो कैम्पर, दो बाइक, एक बुलट और एक स्कॉर्पियो कार शामिल है।

पुलिस ने ये वाहन जब्त किए। पुलिस का कहना है कि उस पर हमला किया गया था।

पुलिस ने ये वाहन जब्त किए। पुलिस का कहना है कि उस पर हमला किया गया था।

दोषी को बख्शेंगे नहीं और निर्दोष को फसाएंगे नहीं: सीआई
इस पूरे मामले में मेड़ता सीआई रोशन सिंह सामरिया ने बताया कि जो दोषी हैं उनको बक्शा नहीं जाएगा और निर्दोष को फंसाया नहीं जाएगा। किसी भी व्यक्ति को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है।अगर कोई ऐसा कृत्य करेगा तो नियमानुसार विधिक प्रावधानों के अनुसार दंडित करने की कार्रवाई की जाएगी। कानून व्यवस्था बनाए रखना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

शाम साढ़े 7 बजे विधायक पहुंची थाने, कहा- नवजात की मां को छुड़ाने आईं हूं
इस मामले में रविवार शाम साढ़े 7 बजे करीब मेड़ता विधायक इंद्रा बावरी भी थाने पहुंच गईं। विधायक ने बताया कि हमें यह सूचना मिली कि दो निर्दोष महिलाओं, जिनमें से एक नवजात शिशु की मां को पुलिस थाने ले आई है। मैं उस महिला को छुड़ाने आई हूं, क्योंकि उसे छोड़ा नहीं गया तो कैसे बच्चा और मां अलग-अलग रहकर रात गुजारेंगे। वहीं दूसरी तरफ 151 में गिरफ्तार नवजात शिशु की मां और अन्य महिला की जमानत मुचलके की कार्रवाई देर रात तक जारी रही। 151 में पकड़े गए आरोपी देर रात जमानत मुचलके पर रिहा किए गए।

सहयोग : हिमांशु गौड़, मेड़ता

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.