लोक कला के रंग में रंगा जवाहर कला केंद्र: 25वें लोकरंग का भव्य शुभारंभ, विभिन्न राज्यों की लोक संस्कृति की दिखी झलक



33 मिनट पहले

लोक रंग में मची कालबेलिया का धमाल

लोकरंग महोत्सव के आगाज के साथ ही जवाहर कला केंद्र सोमवार, 10 अक्टूबर से आगामी 11 दिनों के लिए लोक कला के रंग में रंग गया है। गायत्री राठौड़, प्रमुख शासन सचिव, कला-संस्कृति विभाग ने दीप प्रज्जवलित कर लोक कला के रजत महोत्सव का उद्घाटन किया। इस दौरान केंद्र की अति. महानिदेशक श्रीमती अनुराधा गोगिया समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारी व गणमान्य लोग मौजूद रहे।

गायत्री राठौड़, प्रमुख शासन सचिव, कला-संस्कृति विभाग ने लोक कला के रजत महोत्सव का उद्घाटन किया

शिल्पग्राम में कालबेलिया के साथ हुई प्रोग्राम की शुरुआत

शिल्पग्राम में कालबेलिया के साथ हुई प्रोग्राम की शुरुआत

शिल्पग्राम में सजा हस्तशिल्प मेला

शिल्पग्राम राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर पुरस्कृत दस्तकारों द्वारा निर्मित हस्तशिल्प की स्टाॅल्स से सजा है। इस राष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले में लगी फूड स्टाॅल्स पर लोग विभिन्न प्रदेशों के लजीज व्यंजनों का स्वाद लेते दिखायी दिए। कालबेलिया, राजस्थानी लोक नृत्य व भपंग वादन की मंचीय प्रस्तुति ने लोगों को रोमांचित किया। वहीं शिल्पग्राम में शहनाई-नगाड़ा, कच्छी घोड़ी, बम रसिया, कठपुतली,बहूरूपिया, तीन ढोल की प्रस्तुति ने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा।

मध्यवर्ती में राजस्थान के लंगा गायन के साथ हुई लोक रंग की शुरुआत

मध्यवर्ती में राजस्थान के लंगा गायन के साथ हुई लोक रंग की शुरुआत

राजस्थान का स्वागत नृत्य

राजस्थान का स्वागत नृत्य

राजस्थान का फेमस चरी नृत्य

राजस्थान का फेमस चरी नृत्य

‘लोक कलाकारों को मिला मंच’

इस मौके पर श्रीमती गायत्री राठौड़ ने कहा कि राजस्थान समेत विभिन्न प्रदेश की लोक कलाओं को मंच प्रदान करने के लिए लोकरंग का आयोजन किया गया है। हस्तशिल्प मेले में दस्तकारों की कला को संजोया गया है। दीपावली से पहले यह राष्ट्रस्तरीय सांस्कृतिक आयोजन है, इसमें भाग लेकर प्रदेशवासी लोक कला से रूबरू हो सकेंगे।

मध्यप्रदेश का बधाई नृत्य

मध्यप्रदेश का बधाई नृत्य

उत्तर प्रदेश का ढेढिया नृत्य

उत्तर प्रदेश का ढेढिया नृत्य

आगे-आगे कोतल घुड़लो…

जेकेके का मुक्ताकाशी मंच लोक कलाओं की मनोरम प्रस्तुतियों का गवाह बना। लंगा गायन की प्रस्तुति के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई। जोधपुर से पहुॅंचे कलाकारों ने ‘आगे-आगे कोतल घुड़लो, लारे बन्नी सा रो रथड़ो’ गीत प्रस्तुत किया। इसके बाद चरी नृत्य की प्रस्तुति दी गई। राजस्थानी लोक कलाओं के बाद मध्य प्रदेश का बधाई नृत्य, उत्तर प्रदेश का ढेढिया नृत्य पेश किया गया।

गुजरात का ट्रेडिशनल गरबा नृत्य

गुजरात का ट्रेडिशनल गरबा नृत्य

तमिलनाडु का ओयिलअट्टम नृत्य

तमिलनाडु का ओयिलअट्टम नृत्य

गरबे में शिव प्रसंग का वर्णन

गुजरात से पहुॅंची काॅलेज छात्राओं के ग्रुप ने प्राचीन गरबा पेश किया। गोले में गरबा के जरिए उन्होंने भगवान शिव से जुड़े लोक प्रसंग का वर्णन किया। इसके अलावा तमिलनाडु का ओलियट्टम, असम का बिहू, गुजरात का होली नृत्य व तमिलनाडु का थपट्टम नृत्य पेश किया गया।

असम का बीहू

असम का बीहू

गुजरात का होली नृत्य

गुजरात का होली नृत्य

तमिलनाडु का थपट्टम

तमिलनाडु का थपट्टम

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.