लॉ एंड ऑर्डर व केस निस्तारण में परेशानी: दिल्ली पुलिस की तर्ज पर राजस्थान के थानों में भी दो-दो एसएचओ, शुरुआत नयापुरा थाने से होगी



  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • On The Lines Of Delhi Police, Two SHOs In The Police Stations Of Rajasthan, Starting From Nayapura Police Station

कोटा42 मिनट पहलेलेखक: समकित जैन

  • कॉपी लिंक

दिल्ली पुलिस की तर्ज पर अब राजस्थान के चुनिंदा थानों में भी दो थानाधिकारी लगाए जाएंगे। दोनों के पास अलग-अलग जाब्ता हाेगा। एक सीआई पर लॉ एंड ऑर्डर और दूसरे पर मुकदमों के अनुसंधान व निस्तारण की जिम्मेदारी होगी। पायलट प्रोजेक्ट के रूप में कोटा के नयापुरा पुलिस थाने का चयन किया गया है। डीजीपी उमेश मिश्रा ने कोटा में प्रोजेक्ट लागू करवाने का जिम्मा आईजी प्रसन्नकुमार खमेसरा को दिया है।

पुलिसिंग में आ रही समस्याओं, मुकदमों के इन्वेस्टिगेशन और बढ़ती पेंडेंसी को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। नयापुरा थाने में वर्तमान में एक थानाधिकारी और 70 पुलिसकर्मियों का जाब्ता तैनात है। पायलट प्रोजेक्ट के तहत अब यह जाब्ता मुकदमों का गुणवत्तापूर्ण अनुसंधान का काम करेगा। वहीं, एक अलग थानाधिकारी के साथ करीब 30 पुलिसकर्मियों का जाब्ता लॉ एंड ऑर्डर देखेगा।

संपर्कसभा में आए सुझाव पर लिया फैसला: दरअसल, डीजीपी उमेश मिश्रा ने तीन दिन पहले कोटा में संपर्क सभा ली थी। इसमें डीएसपी शंकरलाल और नयापुरा सीआई राजेंद्र कमांडो ने नयापुरा थाने की परिस्थतियों और पुलिसिंग में आ रही परेशानियाें के बारे में बताया। मिश्रा ने पूरे प्रदेश में आ रही इस समस्या को दूर करने के लिहाज से नयापुरा थाने को ही पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में चयन करने का फैसला ले लिया।

नयापुरा थाने का चयन इसलिए: इसकी सीमा में जेल, 2 बड़े सरकारी अस्पताल, 25 से ज्यादा कोर्ट, 6 कॉलेज, बस स्टैंड हैं। धरना-प्रदर्शन इसी क्षेत्र में होते हैं। वीआईपी मूवमेंट रहता है। इसी थाने में पिछले दिनों युवक आत्मदाह कर चुका है। तब पूरा थाना लाइन हाजिर हुआ था।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.