रिफाइनरी बवाल के बाद लगी धारा 144: 5 थानाधिकारी, 2 आरएसी कंपनी,100 से ज्यादा पुलिस जाब्ता तैनात



बाड़मेर5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रिफाइनरी के पास 3 किमी इलाके में धारा 144 लागू, 100 से ज्यादा आरएसी व पुलिस जवान तैनात।

देश की सबसे बड़ी निर्माणाधीन पचपदरा रिफाइनरी गेट पर हुए बवाल के बाद पुलिस से मिले इनपुट के आधार पर डीएम ने आगामी आदेशों तक धारा 144 लागू कर दी है। वहीं दो पक्षों की ओर से क्रॉस मामले दर्ज करवाए गए है। पुलिस दोनों मामलों में जांच में जुटी है। रिफाइनरी के आसपास हो रहे हलचल की उच्चाधिकारी फीडबैक ले रहे है। करीब 8-10 किलोमीटर एरिया में जगह-जगह पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है।

रिफाइनरी मुख्य सर्किल पर नागाणाराय होटल से लेकर रिफाइनरी तक जगह-जगह पुलिस के जवान तैनात रहे। वहीं बिना नंबरी व काले शीशे लगे वाहनों की चैकिंग करने के बाद गुजरने दिया गया। इसके साथ ही दिन भर उच्चाधिकारियों फीडबैक लेने के साथ ही रिफाइनरी में गश्त पर रहे। 8 नवंबर को हुई घटना के दोनों पक्षों की ओर से क्रॉस मामले दर्ज करवाए गए है। पुलिस ने दोनों मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस दोनों पक्षों के लोगें पर नजर बनाए हुई थी, ताकि किसी प्रकार की अवांछनीय गतिविधि को होने से रोका जा सकें।

पुलिस व प्रशासन ने ऐतिहायत के तौर पर तैनात किया जाब्ता, लगाई धारा 144

पुलिस व प्रशासन ने ऐतिहायत के तौर पर तैनात किया जाब्ता, लगाई धारा 144

एसपी दीपक भार्गव के मुताबिक रिफाइनरी में दो कंपनी आरएसी, एक एएसपी, दो डीएसपी, 5-6 थानों के थानाधिकारी और 100-150 की संख्या में पुलिस के जवान मौजूद है। फिक्स पैकेट व मोबाइल टीम लगी हुई है। रिफाइनरी पूर्णतया सुरक्षित है। दो दिन पहले हुआ बवाल रिफाइनरी से बाहर था। रिफाइनरी के अंदर काम सुचारू रूप से जारी है।

जिला कलेक्टर लोक बंधु के मुताबिक रिफाइनरी में दो पक्षों के बीच विवाद के बाद एतिहायात धारा 144 लगाई गई है। पुलिस की ओर से इनपुट मिला था कि वहां पर और कोई धरना प्रदर्शन किया जाने की आशंका है। इसी को लेकर रिफाइनरी से 3 किलोमीटर दायरे में किसी भी प्रकार का धरना या प्रदर्शन नहीं किया जा सकेगा। आगामी आदेश या दो माह तक के लिए आदेश निकाले गए है।

रिफाइनरी की चारदीवारी के 3 किमी क्षेत्र में धारा 144

जिला कलेक्टर लोकबंधु ने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 के धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा जारी कर एचपीसीएल आरआरएल रिफाइनरी ग्राम साजियाली, रूपजी कंठवाड़ा व सांभरा तहसील पचपदरा की रिफाइनरी की चार दीवारी के तीन किलोमीटर क्षेत्र में पांच या पांच से अधिक लोग एक साथ इकट्‌ठे या घूमने पर पूर्णतया पाबंदी रहेगी। आगामी आदेशों तक यह आदेश जारी रहेगा।

यह था मामला

मंगलवार को रिफाइनरी गेट नंबर 3 पर तहसीलदार को ज्ञापन सौंप रहे लोगों व अधिकारियों पर 5-7 कैंपर सवार युवकों ने गाड़ी उपर चढ़ाकर कुचलने का प्रयास किया था, इसके बाद आक्रोशित भीड़ ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। इस दौरान दो कैंपर छोड़कर भागने पर भीड़ ने कैंपर गाड़ियों में तोड़फोड़ कर उसे आगे के हवाले कर दिया। फायर बिग्रेड की मदद से आग पर काबू पाया गया, तब तक गाड़ियां पूरी तरह से जलकर राख हो गई। घटना के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया, इसे देखते हुए बाड़मेर जिले के अलग-अलग थानों से जाब्ता बुलाने के बाद शाम को कलेक्अर लोक बंधु व एसपी दीपक भार्गव ने घटना स्थल का जायजा लेकर लोगों से शांति की अपील की।

दोनों पक्षों के क्रॉस मामले दर्ज, पुलिस जुटी जांच में

छगनलाल खारवाल व सत्यजीतसिंह के साथ पचपदरा व मांडपुरा के ग्रामीणों ने रिपोर्ट पेश कर बताया कि दोनों गांव के कई ग्रामीण रिफाइनरी में मजदूरी का काम करते है। मेहराराम, गिरधारीराम, चैनाराम, घनश्याम, सुरेश सियाग, ओमप्रकाश, सवाई, राजकुमार, रघु डऊकिया, चेतन जाट, दिनेश, दलपत कुमार, चुतराराम जांणी, केसाराम मारवाड़ी सहित 10-12 लोगों ने एकराय होकर रिफाइनरी में अपना दबदबा बना रखा है। इसी के दम पर वे रिफाइनरी में काम करने वाले मजदूरों से हफ्ता वूसली करते है। जिसका मजदूरों द्वारा विरोध करने पर मारपीट कर गंदी गालिया देते हुए धमकियां दी। मंगलवार को ज्ञापन देने के लिए खड़े थे। इतने में गेटन नंबर 4 की तरफ से 7-8 बिना नंबरी बोलेरो कैंपर गाड़िया लेकर हथियारों से लैस होकर आए 20-25 व्यक्तियों ने ग्रामीणों को जान से मारने का प्रयास करते हुए गाड़िया ऊपर चढाई। इस पर सभी इधर-उधर भागकर जान बचाई। वहीं दूसरे पक्ष ने मोहनलाल पुत्र दुर्गाराम निवासी जसनाथपुरा परेऊ ने रिपोर्ट पेश कर बताया कि उसके पार्टनर भोमाराम के मालिकाना फर्म के नाम की गाड़ी बोलेरो कैंपर रिफाइनरी में योकोगावास कंपनी में किराए पर लगी हुई है, जिसे ड्राइवर वगताराम हमेशा सुबह रिफाइनरी कंपनी कार्मिक को लेकर जाता है। 8 नवंबर को वह कार्मिकों को रिफाइनरी के अंदर छोड़कर बाहर आया और खाना खाकर वापस रिफाइनरी के गेट नंबर 3 पर गाड़ी लेकर पहुंचा तो पहले से ही अपराध करने की तैयारी कर हाथों में हथियार सरिए, पत्थर लेकर छगनसिंह खारवाल, यश खारवाल, दिनेश खारवाल, अमित, पवन, डालाराम प्रजापत, मनीष स्वामी आ ओर गाड़ी को रुकवाकर वगताराम को नीचे उतारकर जान से मारने का डर बताकर छगनसिंह ने ड्राइवर से रुपए मांगे नहीं देने पर गाड़ी में आग लगा देंगे। यह कहते हुए हुए छगनसिंह सहित 40-50 अन्य लोगों ने गाड़ी में तोड़फोड़ कर आग लगा दी। पुलिस ने दोनों पक्षों के मामले दर्ज जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.