मेयो कॉलेज की जनरल काउंसिल का निर्णय: 10 एकड़ में बन रहा मयूर स्कूल जयपुर, 2023 से शुरू होगा सत्र




जयपुर40 मिनट पहले

स्कूल की स्थापना ग्लोबल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी सोसायटी जयपुर की ओर से की गई है।

जयपुर

मेयो कॉलेज जनरल काउंसिल अजमेर के तत्वावधान में मयूर स्कूल जयपुर अप्रैल 2023 में अपना पहला शैक्षणिक सत्र शुरू करने जा रहा है। स्कूल की स्थापना ग्लोबल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी सोसायटी जयपुर की ओर से की गई है। यह लॉन्च राज्य में अपनी उपस्थिति को मजबूत करने की मेयो कॉलेज जनरल काउंसिल की स्ट्रैटेजी के अनुरूप है। यह जानकारी मयूर स्कूल जयपुर के डायरेक्टर मन कंदोई ने शनिवार को को मीडिया ब्रीफिंग में दी। कंदोई ने आगे बताया कि मयूर स्कूल जयपुर पूरी तरह से वातानुकूलित स्कूल जोन है, जो कि 10 एकड़ से अधिक क्षेत्र में फैला शिक्षा परिसर है। छात्रों के समग्र विकास के लिए, स्कूल में खेलों से लेकर अतिरिक्त पाठयक्रम गतिविधियों के साथ-साथ एकीकृत शिक्षा का एक अनूठा संयोजन होगा। सीनियर वाइस चेयरमैन रणधीर विक्रम सिंह ने कहा कि 1875 में स्थापित मेयो कॉलेज की 150 वर्षों की लिगेसी है। मेयो कॉलेज जनरल काउंसिल से जुड़कर मयूर स्कूल जयपुर इस प्रसिद्ध पब्लिक स्कूल की बेस्ट प्रैक्टिसिस का पालन करेगा। मेयो कॉलेज जनरल काउंसिल के सचिव और मेयो कॉलेज अजमेर के निदेशक, लेफ्टिनेंट जनरल एस एच कुलकर्णी (सेवानिवृत्त) ने कहा 1875 से मेयो कॉलेज ‘नई शिक्षा नीति 2020’ में बताए गए समग्र शिक्षा के विचारों का पालन कर रहा है।

मेयो कॉलेज, अजमेर के हेडमास्टर नवीन कुमार दीक्षित ने बताया कि मयूर स्कूल जयपुर कोलेबोरेशन मॉडल पर आधारित है, जो यह सुनिश्चित करेगा कि मेयो कॉलेज के ‘एथोस’ भारत के साथ-साथ दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फैलाए जाएं। दीक्षित ने आगे कहा कि यह सीएसआर मॉडल पर भी आधारित है, न कि बिजनेस मॉडल पर। मयूर स्कूल जयपुर के चेयरमैन राजकुमार कंदोई ने कहा कि समय, ट्रांस्पोर्टेशन, किताबें, सुरक्षा आदि के मामले में माता-पिता की सुविधाओं को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है।

डिजिटल क्लासरूम से इक्विप्ड

मयूर स्कूल जयपुर का उद्देश्य बच्चों के समग्र विकास के लिए विश्व स्तर की सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ शहर के बच्चों को सशक्त बनाना है। स्कूल विभिन्न अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय पाठ्यक्रम का पालन करेगा। मयूर स्कूल जयपुर डिजिटल क्लासरूम से इक्विप्ड है, जिसमें बेहतर टीचिंग-लर्निंग के लिए इंटरैक्टिव डिजिटल टेक्नोलॉजी, पूरी तरह से इक्विप्ड हाई-एंड कंप्यूटर लैब्स के साथ ही सामाजिक विज्ञान, विज्ञान, गणित और विभिन्न भाषाओं के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन की गई लैब्स हैं। छात्रों को स्टेम (STEAM) लर्निंग में मदद करने के लिए ‘मेकरस्पेस’ मौजूद है, ताकि वे भविष्य में टेक्नोलॉजी में माहिर हो सके।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.