माता-पिता की मौत, बच्चों के रुपए लूटने लगे बदमाश: मदद के लिए सोशल मीडिया पर डाले पोस्टर को एडिट कर खुद का नंबर डाला



बाड़मेर21 मिनट पहले

पुलिस ने मदद के रुपए हड़पने वाले एक ठग को गिरफ्तार किया है। तीन चार की तलाश जारी।

सड़क हादसे में पति-पत्नी की मौत के बाद इलाज के दौरान चार साल के मासूम बेटे ने भी दम तोड़ दिया। मासूम को बचाने और पीछे बची 7 बेटियों के पालन-पोषण के लिए सोशल मीडिया पर ऐसी मुहिम चली की देशभर से लोगों ने दिल खोलकर 50 घंटों में 2 करोड़ रुपए बड़ी बेटी के खाते में ट्रांसफर कर दिए। लेकिन कुछ बदमाशों ने इसमें भी धोखाधड़ी करने में जुट गए। सोशल मीडिया पर चल रहे बड़ी बेटी के फोन-पे नंबर व खाता नंबर को एडिट कर खुद के फोन-पे नंबर डाल दिए। इससे मदद करने वाले लोगों ने फर्जी नंबर पर लाखों रुपए डाल दिए। पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। इसके खाते में करीब 11 हजार रुपए आए हैं। वहीं, कुल 1.50 लाख का फ्रॉड अब तक सामने आ चुका है।

दरअसल, परिवार की मदद कर रहे भगाराम पुत्र चिमाराम ने बालोतरा थाने में 19 नवंबर को रिपोर्ट दी थी। भगाराम ने रिपोर्ट में बताया कि सोशल मीडिया पर 7 बहनों की मदद के लिए मुहिम चल रही थी। इस दौरान सभी लोग फोन-पे एवं खाता नंबर में रुपए डालकर ग्रुप में स्क्रीन शॉर्ट डाल रहे थे। इस बीच ग्रुप सदस्य ने फर्जी नंबर पर रुपए ट्रांसफर करने का स्क्रीन शॉर्ट ग्रुप में डाल दिया। जब गांव के लोगों से जब इस बारे में चर्चा की तो ऐसे चार नंबर सामने आए है।

समाज ने 7 बेटियों की मदद करने के लिए पेश की बड़ी मिशाल, 2 करोड़ से ज्यादा रुपए जुटाए।

पुलिस को चार नंबरों की मिली शिकायत

पुलिस ने बताया- बदमाश सोशल मीडिया पर चली मुहिम के पोस्टर (खाता संख्या व फोन नंबर) को एडिट कर दूसरे ग्रुपों में डाल रहे थे। मदद करने वाले लोगों ने इनके खाते में लाखों रुपए डाल दिए। पुलिस को मिली शिकायत में 6376532030, 9636532593, 8003010728 और 8209057425 चार ऐसे नंबर आए। इसमें लोगों ने लाखों रुपए फोन-पे के जरिए ट्रांसफर कर दिए है। पुलिस इनके खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया।

11 हजार रुपए फर्जी खाते में आए

बालोतरा सीआई उगमराज के मुताबिक आरोपी सुरेंद्र कुमार पुत्र सुरताराम निवासी लापुंदड़ा गिड़ा बाड़मेर को रविवार को गिरफ्तार किया था। इसके खाते में 11 हजार रुपए आए थे। वहीं अन्य खातों में जो रुपए जमा हुए है उन तीन-चार आरोपियों की तलाश की जा रही है।

7 बेटियों के इकलौता चार साल का भाई जसराज की इलाज के दौरान तोड़ दिया था दम।

7 बेटियों के इकलौता चार साल का भाई जसराज की इलाज के दौरान तोड़ दिया था दम।

डेढ़ लाख रुपए का फ्रॉड आया सामने

एसपी दीपक भार्गव के मुताबिक कुल एक से डेढ़ लाख रुपए का फ्रॉड सामने आया है। पुलिस टीमें लगातार जांच कर रही है।

7 बेटियों ने पहले माता-पिता और उसके बाद चार साल के भाई को खोया।

7 बेटियों ने पहले माता-पिता और उसके बाद चार साल के भाई को खोया।

ये है मामला

बालोतरा थानाधिकारी उगमराज सोनी के मुताबिक 13 नवंबर को सिणधरी में सड़क हादसे में पति-पत्नी की मौत हो गई थी। माता-पिता की मौत के बाद 7 बहनों को उम्मीद थी कि इकलौता भाई जसराज ठीक होकर घर आ जाएगा। सोशल मीडिया पर मदद की मुहिम चली तो लोगों ने बढ़-चढ़कर आर्थिक मदद की। 2 करोड़ रुपए इकठ्ठे कर दिए। लेकिन 5 दिन बाद इलाज के दौरान चार साल के भाई की भी मौत हो गई।

लोगों ने दिल खोलकर की मदद, 50 घंटों में जुटा लिए थे 2 करोड़।

लोगों ने दिल खोलकर की मदद, 50 घंटों में जुटा लिए थे 2 करोड़।

25 लाख रुपए समूहों ने एकत्र किए, बाकी ऑनलाइन

  • 6 बजे मंगलवार शाम शुरू की लोगों ने मदद के लिए राशि जुटाने की मुहिम।
  • 3 लाख बड़ी बेटी के खाते में जमा हुए हर घंटे में।
  • 50 घंटे में यानी गुरुवार शाम 11 बजे तक 2 करोड़ रुपए खाते में आ चुके थे।
  • इसके बाद भी रुपए खाते मे और कैश लोग घर देकर जा रहे है।

25 लाख रुपए विभिन्न संस्था-समूहों ने एकत्र किए। इनमें से 8 समूहों ने दो दिन में 20 लाख रुपए कैश दिए। इस दौरान केके विश्नोई, मानाराम पूनिया, भागीरथराम कड़वासरा, देवाराम उप प्रधान आडेल, रामसिंह आदि भामाशाह व समाजसेवी मौजूद रहे।

माता-पिता व भाई को खोने के बाद 7 बेटियों के रो-रो कर बुरे हाल।

माता-पिता व भाई को खोने के बाद 7 बेटियों के रो-रो कर बुरे हाल।

बाड़मेर कलेक्टर लोकबंधु ने कहा था- परिवार को चिरंजीवी दुर्घटना बीमा योजना में 10 लाख रुपए मुआवजा, पालनहार योजना में 5 बच्चियों को 2500-2500 रुपए हर महीने दिए जाएंगे। सहकारी बैंक दुर्घटना बीमा के तहत 10 लाख रुपए देगा। सहकार जीवन सुरक्षा बीमा के तहत ऋण माफ किया जाएगा।

13 नवंबर की शाम को सिणधरी कस्बे में हुआ देशभर को दर्द देने वाला हादसा।

13 नवंबर की शाम को सिणधरी कस्बे में हुआ देशभर को दर्द देने वाला हादसा।

ऐसे हुआ हादसा

मालपुरा गांव निवासी खेताराम (50) अपनी पत्नी कोकू देवी (43), पुत्र जसराज (4), चेचेरे भाई बादराराम (50) और अणसीदेवी (45) पत्नी बादराराम के साथ सिणधरी के पास के गांव में बड़ी लड़की के लिए रिश्ते की बात करने के लिए जा रहे थे। सिणधरी कस्बे में उतरकर बस स्टैंड की तरफ जाने लगे तभी पीछे से बेकाबू बोलेरो गाड़ी ने सभी को कुचल दिया था। गाड़ी ट्रॉले से टकराकर रुक गई थी। मौके पर अणसी देवी और कोकूदेवी की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, खेताराम सिर में चोट लगने से गंभीर घायल हो गया था। नाहटा हॉस्पिटल बालोतरा में खेताराम ने दम तोड़ दिया। वहीं 4 साल के बच्चे जसराज, बादराराम और एलडीसी यशवंत कुमार को प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रेफर कर दिया। वहां पर तीनों का इलाज चल रहा था। गुरुवार रात को जसराज ने दम तोड़ दिया।

ये भी पढ़ें

​​​​​​​7 बहनों ने भाई के लिए 2 करोड़ रुपए जुटाए:फिर भी नहीं बचा सकी जान; 50 घंटे में इकट्‌ठे किए थे

7 बहनों के जिस इकलौते भाई को बचाने के लिए लोगों ने 50 घंटे में 2 करोड़ रुपए इकट्‌ठा किए, उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। चार साल का मासूम 4 दिन से जिंदगी और मौत से जंग लड़ रहा था। मासूम की मौत के बाद सोशल मीडिया पर यूजर्स लिख रहे हैं… भगवान यह क्या कर दिया?​​​​​​​ (पूरी खबर पढ़ें)

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.