बाघ खुद बता रहा कॉरिडोर: रामगढ़ टाइगर रिजर्व से महज 6 किमी दूर मुकंदरा का एमटी-5, पथरीले रास्ते पर पगमार्क नहीं, रेडियो कॉलर से मिल रही लोकेशन



  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bundi
  • Mukandra’s MT 5 Just 6 Km Away From Ramgarh Tiger Reserve, No Pugmark On Stony Road, Location Being Obtained From Radio Collar

बूंदी42 मिनट पहलेलेखक: बीरू शर्मा

  • कॉपी लिंक

एमटी-5।

मुकंदरा टाइगर रिजर्व का बाघ एमटी-5 रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व के बफर एरिया से महज 6 किमी दूर है। एमटी-5 के चंबल पार कर अंबा रानी ब्लॉक में आने के बाद से ही मुकंदरा टाइगर रिजर्व व रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व की संयुक्त टीम बाघ की ट्रैकिंग में लगी हुई है। इनके साथ बॉर्डर होमगार्ड के जवान भी हैं।

रास्ता पथरीला होने से बाघ के पगमार्क मिलने में तो मुश्किल आ रही है, लेकिन बाघ के गले में रेडियो कॉलर बंधा होने से लगातार उसके संकेत मिल रहे हैं। मंगलवार सुबह बाघ एमटी-5 की ताजा लोकेशन जवाहर सागर रेंज के अंबा रानी ब्लॉक में मिली है। यह एरिया मुकंदरा टाइगर रिजर्व का ही पार्ट है। सुरक्षा की दृष्टि से अंबा रानी एरिया में लोगों को नहीं जाने की सलाह दी है। बाघ ने यहां शिकार किया है तो एक-दो दिन और उसका यहां मूवमेंट रह सकता है। चंबल नदी पार करने के बाद बाघ को यहां आए हुए तीन दिन बीत चुके हैं। अधिकारियों का मानना है कि एक-दो दिन में लौटा तो ठीक, नहीं तो रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व में आएगा।

धनेश्वर का खेड़ा गांव निर्धारित करता है दोनों टाइगर रिजर्वस एरिया की सीमाएं
धनेश्वर पंचायत का खेड़ा गांव रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व व मुकंदरा टाइगर रिजर्व की सीमा निर्धारित करता है। रामगढ़ टाइगर रिजर्व के बफर पार्ट धनेश्वर और अंबा रानी के बीच की दूरी 6 किमी है। बाघ एमटी-5 की लाेकेशन बीच में ही है, यानी वह है तो मुकंदरा टाइगर रिजर्व के एरिया में, लेकिन रामगढ़ टाइगर रिजर्व के बिल्कुल नजदीक है।

लौटा तो ठीक, नहीं तो रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व में ही आएगा, यहां भरपूर है भोजन-पानी
बाघ एमटी-5 लौटता है तो ठीक, नहीं तो यह रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व में आएगा। धनेश्वर से 30-35 किमी दूर भीमलत के जंगल हैं, जो कालदा से कनेक्ट हैं। यह एक बेहतरीन कॉरिडोर है, जो रामगढ़ विषधारी टाइगर रिजर्व के कोर से जुड़ा हुआ है। यहां बाघ के लिए भोजन-पानी की कोई कमी नहीं है।

बाघ ब्रोकन टेल भी चला था इस रास्ते पर
वर्ष 2003 में रामगढ़ विषधारी अभयारण्य में बाघ ब्रोकन टेल आया था। ब्रोकन टेल कालदा से होते हुए भीमलत, गरड़दा, डाबी होते हुए मुकंदरा में पहुंच गया था, जिसकी ट्रेन दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। इसी तरह बाघ टी-91 भी कालदा के जंगल में आ गया था। इसी बाघ को बाद में मुकंदरा टाइगर रिजर्व में शिफ्ट कर एमटी-1 नाम दिया गया था, जो वर्तमान में लापता है।

-संजीव शर्मा, डीसीएफ कोर, रामगढ़ टाइगर रिजर्व
एमटी-5 के लिए यह एरिया नया है। वह टेरेटरी बनाने के लिए निकला हुआ है। मंगलवार को उसकी लोकेशन अंबा रानी ब्लॉक में मिली है। दोनों टाइगर रिजर्व की टीमें ट्रैकिंग में लगी हुई हैं। सिग्नल रिसीवर से मैसेज मिल रहे हैं। -टी. मोहन राज, डीसीएफ (बफर), वन मंडल, बूंदी

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.