बच्चा पैदा करने के लिए पत्नी के साथ रहेगा रेपिस्ट: पत्नी ने अर्जी दी थी- प्रेग्नेंट नहीं हुई तो 16 संस्कार रह जाएंगे अधूरे



जयपुरएक मिनट पहलेलेखक: समीर शर्मा

पंजाब में कैदियों को वंश बढ़ाने के लिए जीवन साथी के साथ अकेले में समय बिताने के लिए जेल परिसर में ही एक अलग कमरे की व्यवस्था की है, जिसकी पूरे देश में चर्चा है। वहीं, राजस्थान हाईकोर्ट का एक ऐतिहासिक फैसला भी इन दिनों छाया हुआ है, जिसमें गैंगरेप के दोषी को 15 दिन पत्नी के साथ रहने की इजाजत मिल गई है।

हाईकोर्ट ने तीन दिन पहले नाबालिग से गैंगरेप के 22 साल के एक दोषी राहुल बघेल को उसकी 25 साल की पत्नी बृजेश देवी के साथ रहने की इजाजत दी है। बच्चा पैदा करने के लिए पॉक्सो एक्ट के तहत अलवर जेल में बंद राहुल को 15 दिन की पैरोल मिल गई। पैरोल का ये आदेश अलवर जेल प्रशासन तक पहुंच गया है और इसका प्रोसेस भी स्टार्ट हो गया है।

राजस्थान में यह पहला फैसला है, जिसमें रेप के दोषी को पैरोल मिल गई। राजस्थान के पैरोल रूल्स में रेप या गैंगरेप के मामलों में पैरोल नहीं मिल सकता और न ही ऐसे दोषियों को ओपन जेल में भेजा जा सकता है, लेकिन हाईकोर्ट ने पत्नी के मौलिक व संवैधानिक अधिकारों को ध्यान में रखते हुए इस याचिका को स्वीकार किया है।

राहुल की पत्नी बृजेश देवी ने बच्चा पैदा करने के अपने मौलिक एवं संवैधानिक अधिकार का हवाला देते हुए अलवर के डीजे कोर्ट में 13 जुलाई 2022 को इमरजेंट पैरोल (आपात पैरोल) याचिका लगाई। फिर, कुछ दिन के इंतजार के बाद 20 जुलाई, 2022 को हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। हाईकोर्ट में लगाई याचिका में 30 दिन की पैरोल देने की मांग की गई, लेकिन हाईकोर्ट ने राहुल को 15 दिन के पैरोल पर छोड़ने का आदेश सुनाया।

ये याचिका राहुल की सजा के ठीक एक महीने बाद लगाई गई। याचिका में कहा गया कि पत्नी को प्रेग्नेंसी या दम्पत्ति को वंश बढ़ाने के लिए रोकना संविधान के आर्टिकल 14 और 21 की भावना के खिलाफ होगा।

अलवर के डीजे कोर्ट में याचिका लगाने के बाद 7 दिन तक सुनवाई का इंतजार किया, फिर इसके बाद हाईकोर्ट में याचिका दायर की। 15 अक्टूबर को हाईकोर्ट ने इस मामले की सुनवाई की।

स्पेशल रिपोर्ट में पढ़िए…

– कोर्ट रूम में बृजेश की पत्नी की ओर से क्या तर्क रखे गए?

– सरकार की ओर से पैरोल अर्जी खारिज करने के लिए क्या कहा गया?

– अदालत ने सुनवाई को बाद किन-किन तर्कों को माना और फैसला दिया?

– रेप केस के इस पहले मामले के अलावा क्या प्रेग्नेंसी के लिए किसी और केस में भी पैरोल दिया गया है?

विश्राम प्रजापति – बृजेश देवी का पति दो साल से जेल में बंद है। उसकी शादी 2018 में हुई थी। वह शादी से खुश है और बच्चा चाहती है। वर्तमान में उसकी कोई संतान नहीं है। बृजेश देवी धार्मिक-समाजिक और मानवीकी परम्पराओं के चलते वंश वृद्धि करना चाहती है।

नरेंद्र गुर्जर – पैरोल अर्जी का विरोध करते हुए राजस्थान प्रेजेंस (रिलीज टू पैरोल) रूल्स 2021 को कोर्ट में पेश किया और कहा कि प्रेग्नेंसी के लिए रेप मामलों में पैरोल देने का कोई प्रावधान नहीं है। इस याचिका का कोई आधार ही नहीं है।

प्रजापति – राहुल के दोष में उसकी पत्नी बृजेश की कोई भूमिका नहीं है। बृजेश अपनी शादी को बचाए रखना चाहती है। बच्चे को जन्म देना उसके मौलिक और संवैधानिक अधिकारों में शामिल है।

गुर्जर – यदि कैदी को पैरोल दी गई, तो समाज में अच्छा मैसेज नहीं जाएगा। समाज पर विपरीत प्रभाव भी पड़ेगा। इस आधारहीन याचिका को खारिज करना चाहिए।

प्रजापति – याची बृजेश देवी के पास मां बनने के लिए और कोई दूसरा उचित विकल्प नहीं है। इसके कारण उसके पति को पैरोल पर जेल से रिहा करने की इजाजत दी जाए।

गुर्जर – दोषी POCSO एक्ट में बंद है, जो बहुत गम्भीर नेचर का है। कोर्ट को इस संबंध में भी गौर करना चाहिए।

प्रजापति – वैदिक संस्कृति के तहत हिन्दू फिलोसफी के 16 संस्कारों में गर्भधारण सबसे पहला और बहुत महत्वपूर्ण संस्कार है। हिंदू दर्शन के अनुसार गर्भाधान यानी गर्भ का धन। वेद और भजनों में भी संतान के लिए बार-बार प्रार्थना की जाती है।

गुर्जर – यदि दोषी को पैरोल पर बाहर छोड़ा गया, तो पीड़िता और आरोपी, दोनों के बीच विवाद और झगड़े तक होने की आशंका है। ऐसी आशंका अलवर कलेक्टर की रिपोर्ट में भी जताई गई है।

शारीरिक मानसिक जरूरतें प्रभावित, प्रेग्नेंसी के लिए पहली बार दी गई पैरोल का हवाला

राजस्थान में POCSO एक्ट में राहुल को पैरोल मिलने का पहला मामला है, लेकिन प्रेग्नेंसी की मांग को लेकर प्रदेश में किसी कैदी को पैरोल पर छोड़ने का ये दूसरा मामला है। राहुल को पैरोल दिलाने के लिए हाईकोर्ट की जोधपुर बैंच के 5 अप्रैल, 2022 के आदेश का हवाला दिया, जिसमें मर्डर के दोषी नन्दलाल को 15 दिन की पैरोल पर छोड़ा गया था।

नन्दलाल मामले को लेकर हाईकोर्ट ने माना था कि कैदी की पत्नी निर्दोष है और उसकी शारीरिक व मानसिक जरूरतें प्रभावित हो रही हैं। जोधपुर बैंच ने कहा कि अगर जमानत नहीं दी गई तो यह विवाहिता के मां बनने के मौलिक अधिकार के खिलाफ होगा। कोर्ट ने कहा कि यह धार्मिक मान्यताओं, सांस्कृतिक, सामाजिक और मानवीय आधार पर किसी भी कपल को भारतीय संविधान की ओर से दिया गया अधिकार है।

सुनवाई के बाद अधीक्षक को दिए अधिकार

राहुल बघेल की पैरोल अर्जी पर दोनों पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने बृजेश देवी की याचिका को एक महिला के संवैधानिक व मौलिक अधिकारों एवं मानवीकी आधार पर स्वीकार कर लिया और 15 दिन के सशर्त पैरोल की इजाजत दी। हाईकोर्ट ने माना कि दोषी को पैरोल नहीं देने से उसकी पत्नी को संविधान की ओर से दिए गए अधिकारों का हनन होगा।

हाईकोर्ट के आदेश में अलवर सेंट्रल जेल के अधीक्षक को छूट दी है कि वह ऐसी शर्तें लगा सकते हैं, जिससे आरोपी पैरोल के बाद फिर से सजा पूरी करने के लिए जेल में हाजिर हो। हाईकोर्ट ने अधीक्षक को राहुल को जेल नियमों के अनुसार पैरोल देने के लिए कहा है। पैरोल के लिए राहुल को दो लाख रुपए का पर्सनल बांड और एक-एक लाख रुपए के दो सिक्योरिटी बांड लेने के निर्देश दिए हैं।

पंजाब : जेल में बंद पति से अकेले में मिल सकती है पत्नी

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में इसी साल पहुंचे कुछ मामलों की सुनवाई के बाद पंजाब सरकार ने जेल में पति-पत्नि को एकांत में मिलने की व्यवस्था की है। पंजाब सरकार की इस पहल के तहत कैदियों को जीवन साथी संग अकेले में कुछ समय बिताने के लिए अलग कमरा मिलेगा।

कमरे में अलग डबल बेड, टेबल और अटैच बाथरूम भी होगा। कमरे में रहने के लिए जेल प्रशासन दो घंटे का समय देगा, जिस पर पति-पत्नी अकेले में समय बिता सकेंगे।

लुधियाना जेल में कैदियों को जीवनसाथी से मिलने के लिए बनाया कमरा।

लुधियाना जेल में कैदियों को जीवनसाथी से मिलने के लिए बनाया कमरा।

फिलहाल यह सुविधा इंदवाल साहिब, नाभा, लुधियाना और बठिंडा महिला जेल में शुरू की जा चुकी है। इसे सभी जेलों में शुरू करने की तैयारी है, लेकिन यह सुविधा अभी हर अपराधी के लिए नहीं है, इस सुविधा से गैंगस्टर और यौन अपराधियों को दूर रखा गया है।

विदेश में है ये सुविधा

भारत के बाहर कई देशों में जेल में बंद कैदी एक अलग कमरे में अपने जीवन साथी से मिलते हैं। अमेरिका, फिलीपींस, कनाडा, सऊदी अरब, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया समेत कई देशों में ये सुविधा दी जाती है।

ये भी पढ़ें-

डॉक्टर बोलीं- पति के कई अफेयर, मुझे ड्रग्स देता था:18 साल बड़े NRI पति का आरोप- करोड़ों रुपए के लिए पत्नी ने अपाहिज बना दिया

जयपुर में एक NRI बिजनेसमैन नितिन उपाध्याय (52) ने पत्नी डॉक्टर अमिता उपाध्याय(34) के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। FIR में ऐसे-ऐसे आरोप लगाए, जिन्हें सुनकर पुलिस भी दंग रह गई। बिजनेसमैन ने आरोप लगाए- ‘पत्नी ने मुझे कालसर्प दोष का डर दिखाकर एक तांत्रिक से मिलाया’ (पूरी खबर पढ़ें)

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.