पहले दिन 62, दूसरे दिन 50 सवाल हुए लीक: फोरेस्ट गार्ड की पूरी परीक्षा पर ही सवाल; भरतपुर में 4 डमी कैंडीडेट पकड़े



राजसमंद20 मिनट पहले

वनरक्षक भर्ती 2020 में निकाली गई थी। दो साल से बेरोजगार परीक्षा का इंतजार कर रहे थे, लेकिन तमाम दावों के बावजूद 12 नवंबर की दूसरी पारी का पेपर लीक हो गया। 100 में से 62 सवालों के जवाब वॉट्सऐप पर वायरल होते रहे और उसके सौदे होते रहे।

फिलहाल यह पेपर रद्द कर दिया गया, लेकिन 13 नवंबर की तीसरी पारी में भी 100 में से 50 सवालों के जवाब सोशल मीडिया पर शेयर होने की बात सामने आ रही है। ऐसे में पूरी भर्ती परीक्षा पर ही सवाल खड़े हो गए हैं। 2300 पदों के लिए यह एग्जाम लिया गया था।

12 और 13 नवंबर को हुई वनरक्षक भर्ती परीक्षा-2020 में 12 नवंबर को दूसरी पारी का पेपर रद्द किया गया इससे 4 लाख 2 हजार 129 अभ्यर्थी प्रभावित हुए हैं। इन्हें दोबारा जनवरी में परीक्षा देनी होगी। हालांकि अभी तारीख तय नहीं हुई है। इस परीक्षा में 2 लाख 11 हजार 174 परीक्षार्थी परीक्षा में बैठे थे।

राजसमंद एसपी सुधीर चौधरी के मुताबिक पेपर रेलमगरा से लीक हुआ। अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के सहायक तकनीकी कर्मचारी दीपक शर्मा (30) को 100 में से 62 सवालों के जवाब वॉट्सऐप गंगापुर सिटी के पवन सैनी से मिले। उसने 5 लाख में आंसर शीट का सौदा किया और दो लोगों को 6-6 लाख रुपए में बेचने के मकसद से वॉट्सऐप पर भेज दिया।

इस मामले में पुलिस ने अब तक 11 लोगों को हिरासत में लिया है। दीपक शर्मा को रेलमगरा से गिरफ्तार कर लिया। देर रात तक पुलिस ने दिल्ली समेत प्रदेश के 5 जिलों में दबिश दी। दिल्ली से भरत चौधरी नाम के युवक को भी पकड़ा गया है।

एक अभ्यर्थी गोविंद मीना ने बताया कि 13 नवंबर को तीसरी पारी में हुए पेपर की आंसरशीट भी सोशल मीडिया पर शेयर हो रही थी। इस शीट में 50 आंसर लीक हुए थे। हालांकि बोर्ड ने इसे लीक नहीं माना है। उधर दोनों दिन भरतपुर में भी 4 डमी कैंडिडेट परीक्षा देते पकड़े गए। शनिवार को हुई परीक्षा में एक डमी कैंडिडेट तो ब्लूटूथ डिवाइस के साथ दबोचा गया।

कर्मचारी चयन बोर्ड के अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने रविवार शाम कहा कि शनिवार को हुए दूसरी पारी के पेपर को रद्द कर दिया। जिन अभ्यर्थियों ने दूसरी पारी का पेपर दिया था, उनके लिए जनवरी में फिर से वनरक्षक भर्ती परीक्षा का आयोजन किया जाएगा।

राजसमंद SP सुधीर चौधरी ने रविवार को बताया कि पुलिस को एसओजी से इनपुट मिला था कि परीक्षा से पहले अभ्यर्थी दीपक शर्मा के पास आंसर शीट है। 12 नवबंर की दूसरी पारी के पेपर से एक घंटे पहले ही दोपहर 1.30 बजे दीपक शर्मा को आंसर शीट मिल चुकी थी। दीपक के वॉट्सऐप की जांच की तो उसमें 62 आंसर विकल्पों के साथ मिले। उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

आरोपी दीपक शर्मा बिजली कर्मचारी है। उसे पुलिस ने राजसमंद में दरीबा 132 जीएसएस के आवासीय परिसर से गिरफ्तार किया।

62 आंसर एग्जाम से पहले ही मिल गए
इस आंसर शीट को पेपर से मिलाया गया तो यह सही पाई गई थी। दीपक ने पुलिस को बताया कि उसे 9461*** सीरीज के वॉट्सऐप नंबर से यह आंसर-शीट मिली थी। वॉट्सऐप वाइस कॉल पर 12 नवंबर को हुई परीक्षा के दूसरी पारी के प्रश्न पत्र के उत्तर के लिए उसने 5 लाख रुपए में डील की थी।

डील के तहत आंसर शीट वॉट्सऐप पर परीक्षा से करीब 1 घंटे पहले उपलब्ध कराने की बात हुई थी। पुलिस ने पूछा कि किस सोर्स से पेपर मिला तो जयपुर के पवन सैनी (निवासी गंगापुर सिटी, सवाई माधोपुर) का नाम सामने आया। पुलिस ने पवन को भी डिटेन कर लिया।

पूछताछ में दीपक ने बताया कि यह हल पेपर उसने उसके परिचितों करौली के सपोटरा निवासी जितेंद्र कुमार सैनी और दौसा में लालसोट के हेतराम मीणा को 6-6 लाख रुपए में बेच दिया। दीपक ने इन दोनों को वॉट्सऐप पर पेपर भेज दिया था।

इनके अलावा दिल्ली से भरत चौधरी नाम के युवक को कल पकड़ा गया है। सभी से पूछताछ की जा रही है।

इनके अलावा दिल्ली से भरत चौधरी नाम के युवक को कल पकड़ा गया है। सभी से पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने माना कि दीपक, पवन सैनी, जितेंद्र सैनी, हेतराम व अन्य ने संगठित होकर पेपर लीक किया। फिलहाल पुलिस ने दीपक शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। बाकी 10 अन्य को पेपर लीक का संदिग्ध मानते हुए डिटेन किया है।

पेपर लीक किया, यह संगठित अपराध

पुलिस ने यह भी माना सभी ने गिरोह की तरह काम करते हुए न केवल पेपर लीक किया बल्कि उन छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ किया जो आयोग की ओर से आयोजित भर्ती परीक्षा की निष्पक्षता में विश्वास करते हैं और पास होने के लिए पूरी ईमानदारी से मेहनत करते हैं।

बांसवाड़ा नूतन स्कूल में वनरक्षक भर्ती परीक्षा देने के लिए आए परीक्षार्थियों की जांच के दौरान फुल आस्तीन की शर्ट खुलवाकर कैंची से काटी गई।

बांसवाड़ा नूतन स्कूल में वनरक्षक भर्ती परीक्षा देने के लिए आए परीक्षार्थियों की जांच के दौरान फुल आस्तीन की शर्ट खुलवाकर कैंची से काटी गई।

पुलिस ने दीपक शर्मा व अन्य के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 120 बी, धारा 3,6,10 (राजस्थान सार्वजनिक परीक्षा भर्ती में अनुचित साधनों की रोकथाम के उपाय अधिनियम 2022) के तहत मामला दर्ज किया है। आरोपियों से पूछताछ जारी है।

इस पुलिस टीम ने की कार्रवाई
गिरोह के अन्य सदस्यों को पकड़ने के लिए पुलिस विशेष प्रयास कर रही है। पुलिस व एसओजी की इस कार्रवाई में राजसमंद एसपी सुधीर चौधरी, ASP शिवलाल बैरवा, सीओ छगन पुरोहित नाथद्वारा, पुलिस थाना टीम रेलमगरा, जयपुर डीसीपी ईस्ट राजीव पचार, डीसीपी साउथ योगेश गोयल, दौसा एसपी संजीव नैण, एसपी भिवाड़ी शांतनु कुमार सिंह, एसपी करौली नारायण टोगस, रामनगरिया थाना इंचार्ज राजेश शर्मा, जवाहर सर्कल थाना इंचार्ज सुरेंद्र सैनी, दौसा कोतवाली थाना इंचार्ज लाखनसिंह यादव, सवाई माधोपुर बौली थाना इंचार्ज कुसुम मीणा व करौली कोतवाली थाना इंचार्ज उदयभान ने विशेष भूमिका निभाई।

करौली में सेंटर के बाहर से पुलिस ने दबोचा परीक्षार्थी

करौली में वनरक्षक भर्ती परीक्षा में स्थानीय पुलिस ने यहां के एक परीक्षा केन्द्र के बाहर से एक परीक्षार्थी को पकड़ा। जिसके मोबाइल की वॉट्सऐप चैट से परीक्षा में आए पेपर के कई सवालों के जवाब भी मिले। पुलिस उपाधीक्षक दीपक गर्ग ने बताया कि शनिवार को हुई वनरक्षक भर्ती परीक्षा के संपन्न होने के बाद वजीरपुर गेट के समीप स्थित एक परीक्षा केन्द्र के बाहर से परीक्षार्थी को परीक्षा के बाद पकड़ा गया।

सपोटरा जाखौदा निवासी जितेंद्र सैनी परीक्षार्थी के मोबाइल के वॉट्सऐप चैट से परीक्षा में आए पेपर के 62 प्रश्नों के जवाब मिले। इसके चाचा विजेंद्र उर्फ ब्रजेश सैनी को भी डिटेन किया है। पेपर में हूबहू आए सवालों के जवाब उसके पास कहां से आए, इसके बारे में पुलिस पड़ताल में जुटी हुई है। डीएसपी ने बताया कि राजसमंद पुलिस की ओर से करौली पुलिस को सूचना मिली थी, जिसके आधार पर पुलिस ने इस परीक्षार्थी को पकड़ा। राजसमंद पुलिस को इसके बारे में सूचना कर दी गई है। इस प्रकरण में अग्रिम कार्रवाई राजसमंद पुलिस की ओर से की जाएगी।

भरतपुर में डमी कैंडिडेट के पास मिला ब्लूटूथ

भरतपुर में वनरक्षक के पेपर में शनिवार और रविवार को कुल चार फर्जी अभ्यर्थियों को पकड़ा गया। चारों फर्जी अभ्यर्थी दूसरे अभ्यर्थी की जगह पेपर दे रहे थे। जब पर्यवेक्षक को फर्जी अभ्यर्थियों पर शक हुआ तो, उन्होंने फर्जी अभ्यर्थियों के आईकार्ड की जांच की। इसके बाद तीन फर्जी अभ्यर्थियों को मथुरा गेट थाना पुलिस और सेवर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल पुलिस सभी असली अभ्यर्थियों की तलाश कर रही है।

डमी अभ्यर्थी के पास भरतपुर में ब्लूटूथ मिला। उसे पकड़ा तो उसने हंगामा बचाकर बाकी अभ्यर्थियों को भी डिस्टर्ब किया।

डमी अभ्यर्थी के पास भरतपुर में ब्लूटूथ मिला। उसे पकड़ा तो उसने हंगामा बचाकर बाकी अभ्यर्थियों को भी डिस्टर्ब किया।

कुम्हेर रोड पर बाबा लक्ष्मण दास महाविद्यालय में डीग थाना इलाके के रहने वाले हरिओम की जगह शनिवार को अलीगढ़ के टप्पल इलाके का रहने वाला भानु प्रकाश पेपर दे रहा था। जब अशोक वीक्षक को शक हुआ तो उन्होंने भानु प्रकाश की तलाशी ली जिस पर भानुप्रकाश पर ब्लूटूथ की तरह एक डिवाइस मिला। जिसमें सिम लगी हुई थी। जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

यह भी पढ़ें-

6-6 लाख रुपए में बिका वनरक्षक भर्ती का पेपर:एग्जाम से 1 घंटे पहले मिली आंसर शीट; पहले दिन दूसरी पारी की परीक्षा रद्द

राजस्थान में एक और भर्ती परीक्षा का पेपर लीक हो गया। 2300 पदों के लिए 12 और 13 नवंबर को वनरक्षक परीक्षा हुई थी। 12 नवंबर को दूसरी पारी के पेपर की आंसर शीट एग्जाम से पहले ही वॉट्सऐप पर आ गई थी। पुलिस ने पेपर लीक में सरकारी कर्मचारी को गिरफ्तार किया और 10 लोगों को हिरासत में लिया है। पूछताछ में खुलासा हुआ कि 5 लाख रुपए में पेपर खरीदा गया और 6-6 लाख रुपए में बेच दिया। (पूरी खबर के लिए क्लिक करें)

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.