दिल्ली में होगा हैंडीक्राफ्ट फेयर: जोधपुर के 250 से अधिक एक्सपोर्टर लेंगे हिस्सा, 3 हजार बायर्स आएंगे



जोधपुर6 घंटे पहले

हैंडीक्राफ्ट क्षेत्र का सबसे बड़ा फेयर ग्रेटर नोएडा में कल से शुरू होगा। इस फेयर में जोधपुर के 250 से अधिक एक्सपोर्टर्स हिस्सा लेंगे। इस फेयर में अर्जेंटीना, आर्मीनिया, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बहरीन, बेल्जियम, बोलीविया, ब्राजील, ब्रुनेई दारुस्सलाम, कंबोडिया, कनाडा, चिली, चीन, जैसे देशों से 3 हजार बायर्स पहुंचेंगे।

ये बायर्स फर्नीचर से लेकर होम डेकोर, फैशन, फेस्टिव डेकोर कारपेट रग्स आदि की खरीदारी करेंगे। इस बी2बी फेयर को लेकर एक्पोर्टर्स में काफी उत्साह है। कोरोना काल के बाद लगने वाले इस फेयर को लेकर जोधपुर के एक्सपोर्टर्स में काफी उत्साह है। इस बार 100 ऐसे एक्सपोर्टर्स है जो पहली बार फेयर में हिस्सा ले रहे हैं।

ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि इस पांच दिवसीय बी2बी मेले के दौरान देश भर के 3000 से अधिक हस्तशिल्प निर्यातकों द्वारा घर, जीवन शैली, फैशन, वस्त्र और फर्नीचर उत्पादों को ला रहे हैं, जो विदेशी खरीदार को दिखाने के लिए उत्सुक हैं, जो अब भारत को हस्तशिल्प वस्तुओं के लिए एकमात्र सोर्सिंग स्पोट मानते हैं।

हैंडीक्राफ्ट उद्योग में मंदी के इस दौर में एक्सपोर्टर्स को उम्मीद है कि इस फेयर में उन्हें अच्छा ऑर्डर मिल सकता है। अच्छे विदेशी बायर्स की उम्मीद में एक्सपोर्टर्स इस फेयर में हिस्सा ले रहे है। वहीं विदेशाें से आने वाले बायर्स भी इस बार कुछ डिफरेंट डिजाइन तालाशेंगे।

हैडीक्राफ्ट एक्सपोर्टर्स को इस फेयर को लेकर काफी उम्मीदें है। एक्सपोर्ट प्रमोट काउंसिल के नॉर्थ वेस्ट रिजन के सदस्य जोधपुर के एक्सपोर्टर हंसराज बाहेती ने बताया कि जोधपुर की करीब 270 स्टॉल फेयर में लग रही है। 100 एक्सपोर्टर पहली बार हिस्सा ले रहे हैं। अब तक के सबसे अधिक बायर्स का रजिस्ट्रेशन हुआ है।

जोधपुर की करीब 270 स्टॉल फेयर में लग रही है। 100 एक्सपोर्टर पहली बार हिस्सा ले रहे हैं। और अब तक के सबसे अधिक बायर्स का रजिस्ट्रेशन हुआ है।

जोधपुर की करीब 270 स्टॉल फेयर में लग रही है। 100 एक्सपोर्टर पहली बार हिस्सा ले रहे हैं। और अब तक के सबसे अधिक बायर्स का रजिस्ट्रेशन हुआ है।

दुनिया के सबसे बड़े हस्तशिल्प मेलों में से एक, आईएचजीएफ- दिल्ली मेले का 54वां संस्करण 14 अक्टूबर से ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट में शुरु होगा। विदेशी बायर्स के साथ, इस बार बड़ी संख्या में घरेलू वॉल्यूम खुदरा खरीदारों के लिए खोला जाएगाI

ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि इस पांच दिवसीय बी2बी मेले के दौरान देश भर के 3000 से अधिक हस्तशिल्प निर्यातकों द्वारा घर, जीवन शैली, फैशन, वस्त्र और फर्नीचर उत्पादों को ला रहे हैं, जो विदेशी खरीददार को दिखाने के लिए उत्सुक हैं, जो अब भारत को हस्तशिल्प वस्तुओं के लिए एकमात्र सोर्सिंग स्पोट मानते हैं।

उन्होंने ये भी बताया कि आईएचजीएफ- दिल्ली मेला ऑटम 2022 अपने तरह का एक अनूठा मेला है और इस सीजन के लिए 2000 से अधिक विस्तृत-रेंज से नए उत्पाद चुने जाएंगे जो 14 उत्पाद कैटेगरी के 300 से अधिक डिजाइन एक्सप्रेशन में से होंगे।

14 कैटेगरी में 2हजार से अधिक रेंज, 300 से अधिक डिजाइन
हाउसवेयर, होम फर्निशिंग, फर्नीचर, गिफ्ट एवं डेकोरेटिव्स, लैंप ऐंड लाइटिंग, क्रिसमस एवं फेस्टिव डेकोर, फैशन जूलरी ऐंड एक्सेसरीज, स्पा एवं वेलनेस, कारपेट एवं रग्स, बाथरूम एक्सेसरीज, गार्डन एक्सेसरीज, एजुकेशन टॉयज ऐंड गेम्स, हाथ से बने कागज के उत्पाद एवं स्टेशनरी और लेदर बैग्स I की 300 से अधिक डिजाइन इस फेयर में डिस्प्ले होगी।

मेले में एक्सपो सेंटर के 16 हॉल और मार्ट क्षेत्र के 900 स्थायी शोरूम के साथ शिल्प क्लस्टरों का जोरदार प्रतिनिधित्व होगा I थीम पर आधारित पैवेलियन में पूरे भारत से शिल्पकार मौजूद रहेंगे। जो विदेशी बायर्स के लिए यह विशेष आकर्षण का केंद्र होगा I

ईपीसीएच अध्यक्ष राज कुमार मल्होत्रा ने बताया कि मेले में दुनिया भर से आ रहे विदेशी बायर्स जिनमें थोक खरीदार, वितरक, चेन स्टोर्स, डिपार्टमेंटल स्टोर्स, खुदरा विक्रेता, मेल ऑर्डर कंपनियां, विभिन्न ब्रांड के मालिक, बाइंग हाउस और डिजाइनर और ट्रेंड का पूर्वानुमान बताने वाले शामिल हैं I

100 से अधिक देशों के विदेशी बायर्स लेंगे हिस्सा
100 से अधिक देशों के विदेशी खरीदार जिनमें अर्जेंटीना, आर्मीनिया, ऑस्ट्रेलिया, ऑस्ट्रिया, बहरीन, बेल्जियम, बोलीविया, ब्राजील, ब्रुनेई दारुस्सलाम, कंबोडिया, कनाडा, चिली, चीन, कोलंबिया, साइप्रस, डेनमार्क, मिस्र, फिनलैंड, फ्रांस, जर्मनी, ग्रीस, ग्वाटेमाला, हांगकांग, हंगरी, इंडोनेशिया, ईरान, आयरलैंड, इसराइल, इटली, जापान, जॉर्डन, केन्या, कोरिया रिपब्लिक, कुवैत, लग्जमबर्ग, मलेशिया, मैक्सिको, मोरक्को, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, नाइजीरिया, नॉर्वे, ओमान, पनामा, पराग्वे, फिलीपींस, पोलैंड, पुर्तगाल, कतर, रोमानिया, रूसी संघ, सऊदी अरब, सेनेगल, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, स्पेन, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, थाईलैंड, तुर्की, यूक्रेन, संयुक्त अरब अमीरात, ब्रिटेन, अमेरिका, उरुग्वे, उज्बेकिस्तान, वेनेजुएला, वियतनाम और कई अन्य देशों से खरीदारों ने मेले में आने के लिए पहले ही रजिस्ट्रेशन कराया है I

यह कंपनियां लेगी हिस्सा
ईपीसीएच अध्यक्ष मल्होत्रा ने बताया कि जिन कंपनियों/डिपार्टमेंटर स्टोर्स के खरीदारों ने इस शो में आने के लिए कंनफर्म किया है उनमें दुकान होम, अर्जेंटीना; फ्लावर पावर प्ले लिमिटेड, ऑस्ट्रेलिया; एक्सएक्सएक्स लुट्ज केजी, ऑस्ट्रिया; गोमायर एनवी, बेल्जियम; मर्काना फर्नीचर, कनाडा; सोसाइटी ऑफ लाइफस्टाइल, डेनमार्क; बोल्टज आइडेन डॉयचालैंड जीएमबीएच ऐंड कंपनी केजी, टेजी, जर्मनी; सुगिता एस कंपनी लिमिटेड, जापान; डिस्ट्रिब्यूडोरा लिवरपूल एसए डीई सीवी, मैक्सिको; ब्रिंकर्स कारपेट नीदरलैंड्स बीवी, लाइफस्टाइल होम कलेक्शन बीवी, द नीदरलैंड्स; एसिट्रेड ऐंड ईएल कॉर्टे इंगल्स, स्पेन; ग्राहम ऐंड ग्रीन, पैसिफिक लाइफस्टाइल ऐंड टीजेएक्स कॉर्प, ब्रिटेन; अब्दुल्ला मोहम्मद हाउसहोल्ड अप्लायंस कंपनी एलएलसी, होमसेंटर, लैंडमार्क ग्रुप, यूएई; क्रिएटिव होम लिमिटेड, हॉबी लॉबी, रॉस स्टोर्स इंक, टीजेएक्स कॉर्प ऐंड वीसीएनवाई, अमेरिका और कई अन्य शामिल हैं I

यह ब्रांड रहेंगे मौजूद
उन्होंने ये भी बताया कि इस शो में भारत के प्रमुख रिटेल/ऑनलाइन ब्रांड भी शामिल होंगे I मेले में आने के लिए द विशिंग चेयर, ऐट होम, अर्बन लैडर, फैब इंडिया लिमिटेड, द पर्पल टर्टल्स, फ्लिपकार्ट, शॉपर्स स्टॉप लिमिटेड, रिलायंस रिटेल लिमिटेड, डीएलएफ ब्रांड्स प्राइवेट लिमिटेड, होम एंड बाजार, कालरा, गुडअर्थ डिजाइन स्टूडियो प्राइवेट लिमिटेड, मिस्टर डाय, द फर्नीचर स्टॉप, पेपरफ्राई लिमिटेड, द बॉम्बे स्वदेशी स्टोर्स, फर्नीचरवाला, एशियन पेंट्स लिमिटेड, होम सेंटर एवं ईबे और कई अन्य ने पहले से रजिस्ट्रेशन कराया है I

फैशन शो व सेमिनार का आयोजन
मेला स्वागत समिति के अध्यक्ष अवधेश अग्रवाल, ने बताया कि मेले में प्रदर्शकों से प्राप्त उत्पादों के साथ फैशन शो भी होंगे और मेले के दौरान विभिन्न अहम विषयों पर नॉलेज सेमिनारों का आयोजन भी होगा, जैसे कि 2023 लाइफस्टाइल ऐंड ट्रेंड, ब्रांडिंग- अपने संदेश को अंतिम उपयोगकर्ता तक पहुंचाएं, सस्टेनेबिलिटी ऐंड सर्कुलरिटीः मूल्य उत्पादन के लिए कचरे का उपयोग कैसे करें, हस्तशिल्प उत्पादकों और निर्यातकों के लिए ZED सर्टिफिकेशन के फायदे, नेट जीरो के प्रति जागरूकता और निरंतर सुधार, फॉरेक्स समाधान और विश्व बाजार में रुपये की स्वीकार्यता, हाउ टू मैनेज योर ऑर्गेनाइजेशनल प्रॉडक्टिविटी ऐंड बूस्ट ऑर्गेनाइजेशनल सिटिजनशिप इत्यादि I

28.90% डालर एक्सपोर्ट बढ़ा
ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार ने बताया कि इस वर्ष हस्तशिल्प का निर्यात 4459.76 मिलियन अमेरिकी डॉलर का हुआ जो बीते वर्ष की तुलना में में 28.90% डालर की वृद्धि दर्शाता है I

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.