ठाकुर जी की बारात देख रोने लगे लोग: बहन की इच्छा पर दो भाइयों ने किए लाखों खर्च, लग्जरी रूम में रुके ठाकुर जी



कुम्भलगढ़ (राजसमंद)17 मिनट पहले

राजस्थान के बेस्ट टूरिस्ट डेस्टिनेशन कुंभलगढ़ में रविवार की रात एक ऐसी बारात निकली जो इस शहर ने पहले कभी नहीं देखी थी और आपने भी शायद कभी नहीं देखी होगी। शाही लवाजमे के बीच नाचते गाते बाराती और बड़े ठाठ बाट से बैठे दूल्हे राजा। जिन्हें देखने के लिए जो जहां था, वहीं ठहर गया और नतमस्तक हो गया। ये दूल्हे थे सूरत से आए बालगोपाल ठाकुर जी। जो केलवाड़ा में सोनी परिवार की तुलसा जी को ब्याहने आए थे। जब लग्जरी होटल से वे अपनी बारात लेकर निकले तो पूरा शहर स्वागत में उमड़ा पड़ा। चार दिन से चल रहे इस पूरे विवाह कार्यक्रम के लिए लाखों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। इससे पहले रविवार शाम को ठाकुर जी करीब चार सौ बारातियों के साथ सूरत से कुंभलगढ़ पहुंचे। खुद एक शानदार लग्जरी कार से आए और बाराती बसों से। इसके बाद रात को सजधज कर पूरी बारात के साथ मैरिज गार्डन पहुंचे। जहां वैदिक मंत्रों के बीच तुलसा जी से सात फेरे लिए। दोनों की जोड़ी देखकर हर किसी की आंखें नम हो उठी। यह विवाह केलवाड़ा के दो भाई प्रकाश सोनी और विनोद सोनी अपनी बहिन विमला देवी की इच्छा से करवा रहे हैं।

जब ठाकुर जी सूरत से कुंभलगढ़ पहुंचे तो उन्हें देख घराती प्रकाश सोनी भावुक हो गए और उनकी आंखें भर आई।

इससे पहले कुंभलगढ़ पहुंचने के बाद ठाकुर जी सीधे अपने लग्जरी कमरे में पहुंचे। यहां बेड पर उन्हें विराजमान किया गया। राजस्थानी चुनड़ी का साफा बांधे ठाकुर जी को देखकर कर वधु पक्ष भावुक भी हो गया। शाम को गांव के ही रामकुड़ी से ठाकुरजी के बारातियों का लवाजमा शुरू हुआ, जो करीब तीन घंटे गांव के हर एक गली मौहल्ले से निकलते हुए सोनी परिवार के घर पहुंचा। इसके बाद तोरण की रस्म के साथ परिवार की महिलाओं ने ठाकुर जी के लाड चाव किए।

थीम बेस वेडिंग में बरातियों को पहनाए साफे

ठाकुर जी की बारात के पैलेस पहुंचते ही सभी बारातियों को साफे पहनाए गए। बैंड बाजों पर ठाकुर जी गानों के साथ सभी बाराती नाचते गाते आए। महिलाओं ने अगवानी में मांगलिक गीत गाए। पैलेस के दरवाजे पर शहनाइयां बजाई गई। इस विवाह में ठाकुर जी की ओर से पूरा समाज वर पक्ष है, हालांकि विवाह की रस्में पूरी करने के लिए सूरत में रहने वाले ललित सोनी मुख्य यजमान बने। उन्होंने यजमान बनने के लिए ढाई लाख रुपए दिए हैं।

ठाकुर जी को चांदी की पालकी में बैठा कर शाही लवाजमे के साथ कुंभलगढ़ में घुमाया गया। इस दौरान सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया।

ठाकुर जी को चांदी की पालकी में बैठा कर शाही लवाजमे के साथ कुंभलगढ़ में घुमाया गया। इस दौरान सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया।

बहन के कहने पर दोनों भाई मिलकर करवा रहे हैं शादी

तुलसी जी का यह विवाह केलवाड़ा के रहने वाले प्रकाश कजोड़ीमल सोनी और उनके भाई विनोद सोनी करवा रहे हैं। प्रकाश सोनी का सूरत में तो विनोद सोनी का केलवाड़ा में ही ज्वेलरी का कारोबार है। इनके परिवार में छोटे-बड़े मिलाकर कुल 15 मेंबर हैं। इस पूरे आयोजन पर करीब 15 लाख रुपए खर्च हुए हैं। इसके लिए चार लग्जरी होटल समेत मैरिज गार्डन भी बुक किए गए हैं।

महिलाओं ने तुलसा जी यानी दुल्हन की बिंदौली निकाली। इस दौरान समाज की महिलाओं ने तुलासी जी को सिर पर रख कर लोक गीतों के साथ डांस किया।

महिलाओं ने तुलसा जी यानी दुल्हन की बिंदौली निकाली। इस दौरान समाज की महिलाओं ने तुलासी जी को सिर पर रख कर लोक गीतों के साथ डांस किया।

होटल में बारातियों की ठहरने की व्यवस्था
रविवार दोपहर बाद बारात कुंभलगढ़ पहुंची, जहां वधु पक्ष की ओर से स्वागत सत्कार किया गया। इस आयोजन के लिए बुक की गई केलवाड़ा की जयनिवास पैलेस होटल में बारातियों के लिए विशेष खाने की व्यवस्था रखी गई। जहां पर एक हजार के करीब लोगों का अरेंजमेंट किया गया था। इसके बाद शाम को बारात की तैयारी की गई। बारात में जाने के लिए ठाकुरजी का विशेष श्रृंगार किया गया। बाराती भी खूब सज धज कर रवाना हुए। बारात में देवी देवताओं का रूप धरे शिव, पार्वती, ब्रह्मा, गणेश जी भी शामिल हुए।

ठाकुर जी के शाही लवाजमें के दौरान महिलाएं थीम बेस्ड परिधानों और पुरुष साफा पहने नाचते हुए नजर आए।

ठाकुर जी के शाही लवाजमें के दौरान महिलाएं थीम बेस्ड परिधानों और पुरुष साफा पहने नाचते हुए नजर आए।

दोनों पक्षों ने निभाई मिलनी की रस्म, रिसेप्शन भी हुआ
मैरिज हॉल रात को सूरत ब्राह्मण स्वर्णकार सोनी समाज से आये बाराती नाचते गाते स्टेज पर पहुंचे। जहां पर तुलसा जी और ठाकुर जी का रिसेप्शन हुआ। दोनों को एक झूले पर बैठाया गया। सभी बारातियों ने एक एक कर उनके साथ फोटो खींचवाई और नेग दिया। इसके साथ ही वर और वधु पक्ष का मिलन रस्म निभाई गई।

केलवाड़ा गांव पहुंचते ही ठाकुर जी का ढोल-नगाड़ों और पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया गया।

केलवाड़ा गांव पहुंचते ही ठाकुर जी का ढोल-नगाड़ों और पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया गया।

ठाकुर जी को शादी से पहले आराम करने और तैयार होने के लिए सभी सुविधाओं से लैस होटल का सबसे स्पेशल रूम दिया गया।

ठाकुर जी को शादी से पहले आराम करने और तैयार होने के लिए सभी सुविधाओं से लैस होटल का सबसे स्पेशल रूम दिया गया।

एक्सयूवी में पहुंचे ससुराल, लग्जरी सुइट में किया आराम
ठाकुर जी सूरत से एक्सयूवी कार में सवार होकर यजमान ललित सोनी के साथ कुंभलगढ़ आए। ठाकुर जी की बारात जैसे ही होटल पहुंची तो गुलाब के फूलों से उनका स्वागत किया गया। यह फूल विशेष तौर पर सूरत से ही मंगवाए गए थे। करीब 151 किलो फूलों से ठाकुर जी और पूरी बारात का स्वागत किया गया। होटल में एक कमरे को ठाकुरजी के खास तौर पर तैयार किया गया था। बारात रवाना होने से पहले ठाकुर जी ने इसी कमरे में आराम किया। उनके लिए केसर वाले दूध और नाश्ते की व्यवस्था की गई। जैसे ही वधु पक्ष को पता चला कि ठाकुर जी कमरे में आराम कर रहे हैं, कई लोग उनके दर्शन करने के लिए पहुंच गए और भावुक हो उठे।

ठाकुर जी के साथ आए सभी बरातियों के लिए कुंभलगढ़ के कई लग्जरी होटल बुक किए गए।

ठाकुर जी के साथ आए सभी बरातियों के लिए कुंभलगढ़ के कई लग्जरी होटल बुक किए गए।

शादी के लिए क्षेत्र के 4 होटलों के करीब 75 रूम के अलावा दो मैरिज हॉल बुक किए गए थे, जिनमें बाराती और कई जगहों से आने वाले मेहमानों को ठहराया गया। इनमें होटल जय निवास, रत्नदीप, होटल कुंभल इन, होटल अमरगढ़ के साथ गांव का माहेश्वरी और ओसवाल भवन शामिल हैं।

7 फेरे लेकर किया विवाह

रात को रिसेप्शन के बाद फेरों की रस्त हुई। मंडप में पंडित जी ने मंत्रोच्चार के बीच फेरे करवाए। यह फेरे ठीक वैसे ही हुए जैसे विवाह में होते हैं। पंडित जी सात फेरों के सात वचन भी वर वधु से करवाए। इस दौरान कन्यादान की रस्म भी निभाई गई। फेरों के दौरान महिलाएं मंगल गीत गाए।

मन्त्रोच्चार के साथ ठाकुर जी तुलसी जी के साथ फेरे लेते हुए।

मन्त्रोच्चार के साथ ठाकुर जी तुलसी जी के साथ फेरे लेते हुए।

1 किलो चांदी सहित 5100 हजार रुपए में हुआ कन्या दान

तुलसा जी और ठाकुर जी के साथ फेरो के बाद कन्या दान की रस्म निभाई गई, जिसमें करीब 1 किलो चांदी उन्हें समाज के लोगों ने कन्यादान में भेंट की और 51 हजार रुपए रोकड़ हुए। इसके अलावा कपडे़ और कई अन्य सामग्री भी दी गई।

तुलसा जी को समाज के लोगों की ओर से चांदी, गहने, बर्तन, वस्त्र कन्यादान में दिया।

तुलसा जी को समाज के लोगों की ओर से चांदी, गहने, बर्तन, वस्त्र कन्यादान में दिया।

71 किलो वजनी शेष नाग आरती से 551 दीपक जलाए
ठाकुर जी और तुलसा जी विवाह के बाद रात 12.40 के करीब गांधीनगर गुजरात के पिंटू भाई ने 71 किलो वजनी शेष नाग की आरती की, जिसमें 551 दीपक जलाए गए। पिंटू ने बताया कि वे 27 साल से यह आरती कर रहे हैं, वे पिछले इन सालों में 12 राज्य से ज्यादा जगह आरती कर चुके हैं।

इस आयोजन में आरती के लिए विशेष रूप से गांधीनगर गुजरात के पिंटू भाई को बुलाया गया था। उन्होंने 551 दीपक के साथ शेष नाग आरती की।

इस आयोजन में आरती के लिए विशेष रूप से गांधीनगर गुजरात के पिंटू भाई को बुलाया गया था। उन्होंने 551 दीपक के साथ शेष नाग आरती की।

कोरोना के कारण दो साल टली शादी

प्रकाश सोनी बताते हैं कि हम कुछ साल पहले यह आयोजन करना चाहते थे, लेकिन कोरोना की वजह से संभव नहीं हो पाया। बहन विमलादेवी ने आयोजन के लिए कहा तो हम दोनों भाई मिलकर इसे कर रहे हैं। खास बात यह है कि विमलादेवी देख नहीं सकतीं। करीब 30 साल पहले उनके पति का निधन हो चुका है, इसके बाद से ही वे कृष्ण भक्ति में डूबी हुई हैं। एक दिन पहले रात को भी केलवाड़ा प्रकाश और विनोद सोनी परिवार की ओर से बिन्दौली निकाली गई, जिसमें कई समाज के लोग पहुंचे। घर से शुरू हुई बिन्दौली केलवाड़ा मुख्य बाजार के अलावा चारभुजा बस होते हुए आयोजकों के घर पहुंची।

शाही भोज का हुआ इंतजाम
वधु पक्ष बारातियों की खातिरदारी में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता था। उनके सम्मान में शाही भोज का आयोजन किया गया। जिसमें कई तरह के व्यंजन शामिल थे। मैरिज हॉल में एक हजार से अधिक लोगों ने भोजन किया। इसके लिए कई दिनों से तैयारियां की जा रही थी। रात को फेरों के बाद ठाकुर जी को भी भोजन करवाया गया। इसके लिए 56 भोग सजाए गए।

ये भी पढ़ें…

लग्जरी होटल में हो रही तुलसी-ठाकुरजी की शादी:नेत्रहीन बहन के कहने पर दो भाई करवा रहे लाखों खर्च; 4 होटल बुक

देवउठनी ग्यारस के साथ ही शादी-ब्याह का सीजन शुरू हो गया है। सीजन की शुरुआत में ही राजस्थान के हॉट टूरिस्ट डेस्टिनेशन कुंभलगढ़ की एक शादी पूरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है।

इस शादी के लिए 4 लग्जरी होटल और कई मैरिज गार्डन बुक हैं। सूरत से 400 लोग आने वाले हैं। करीब एक हजार लोगों के लिए कार्ड छपवाए गए हैं। लाखों रुपए खर्च कर टेंट, डेकोरेशन सहित खाने-पीने के इंतजामों की तैयारियां अंतिम चरण में हैं, लेकिन ये भारी-भरकम इंतजाम कोई परिवार अपने बेटे या बेटी की शादी के लिए नहीं कर रहा, बल्कि ये सब तुलसी और ठाकुरजी की शादी के लिए हो रहा है।
(यहां पढ़ें पूरी खबर)

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.