टोंक के ठीकरिया में 24 घंटे में डेढ़ इंच बरसात: खेतों में पानी भरने से किसानों को नुकसान, फिर खुल सकते हैं बीसलपुर के गेट



  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Tonk
  • Damage To Farmers Due To Filling Water In The Fields, Then The Gates Of Bisalpur Can Damage To Farmers Due To Water Filling The Fields In Tonk, The Gates Of Bisalpur Can Open Again

टोंकएक घंटा पहले

टोंक में कई जगह किसानों ने सरसों की बुवाई कर दी थी। अब बारिश से खेतों में पानी भर गया है। किसानों को अब दोबारा बुवाई करनी पड़ेगी।

टोंक जिले में शुक्रवार दोपहर से शुरू हुआ बारिश का दौर रात भर चलता रहा। इस दौरान कहीं तेज तो कहीं हल्की तो कहीं मध्यम दर्जे की बारिश हुई। जिले में बीते 24 घंटे में 10.16 एमएम बारिश दर्ज की गई है। सबसे ज्यादा बारिश 40 एमएम ठीकरिया रेनगेज सेंटर पर हुई। बारिश के कारण किसानों की खेतों में कटी पड़ी खरीफ की फसल को नुकसान हुआ है। इसके अलावा कई किसानों ने खेतों में रबी की फसलों की बुवाई कर दी है। अब खेतों में पानी भरने से बीज खराब हो जाएगा और किसानों को दोबारा बुवाई करनी पड़ेगी।

खेतों में पानी भरने से रबी की फसलों की बुवाई भी लेट होती दिखाई दे रही है, जिसके कारण अब सरसों की बुवाई का रकबा भी घटेगा, क्योंकि अब खेत बुवाई के लिए तैयार होने में करीब 15 दिन लगेंगे। अच्छी पैदावार के लिए सरसों की बुवाई का समय 15 अक्टूबर तक ही है। इसके बाद फसल बुवाई में देरी होती है तो सरसों में रोग आने की संभावना ज्यादा रहती है, ऐसा होने पर किसानों को दोहरी मार पड़ेगी। पहले ही अतिवृष्टि से खरीफ की फसलें खराब हो गई है और अब फसल देरी से अच्छी पैदावार मिलना मुश्किल हो जाएगा।

बारिश के कारण खेतों में कटी पड़ी फसलें खराब हो गई है। वहीं बारिश का पानी भरने से सरसों की बुवाई में देरी होगी, जिससे किसानों को दोहरा नुकसान होगा।

ठीकरिया में हुई 40 MM बारिश
जल संसाधन के XEN अशोक जैन ने बताया कि जिले में 24 घंटे में शनिवार सुबह 8 बजे तक टोंक में 9 एमएम, गलावा रेन गेज सेंटर में 15 एमएम, ठीकरिया में 40 एमएम, पनवाड़ में 20 एमएम, नासिरदा व माशी में 2-2 एमएम, पीपलू व निवाई में 8-8 एमएम बारिश हुई है। इसी तरह टोडारायसिंह रेन गेज सेंटर में 9 एमएम, लांबाहरिसिंह में 4 एमएम, टोरडी सागर में 5 एमएम बारिश दर्ज की गई है।

टोंक में शुक्रवार दोपहर को शुरू हुआ बारिश का दौर रात को भी जारी रहा। शनिवार सुबह भी आसमान में काले बादल छाए नजर आए।

टोंक में शुक्रवार दोपहर को शुरू हुआ बारिश का दौर रात को भी जारी रहा। शनिवार सुबह भी आसमान में काले बादल छाए नजर आए।

10 हजार हेक्टेयर में सरसों की बुवाई
कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर राधेश्याम मीणा ने बताया कि जिले में करीब सप्ताह भर से सरसों की बुवाई शुरू हो गई थी। अब तक करीब 10 हजार हेक्टेयर में सरसों की बुवाई हो चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा रकबा निवाई और मालपुरा क्षेत्र में हैं। अब रात को हुई बारिश से कई जगह खेतों में पानी भर गया है। खेतों में पानी भरने से सरसों का बीज खराब हो जाएगा और किसानों को दोबारा बुवाई करनी पड़ सकती है। सरसों की बुवाई का संभावित टारगेट 2 लाख 65 हजार हेक्टेयर है, जो पिछले साल से करीब 15 हजार हेक्टेयर ज्यादा है।

आज फिर खुल सकते हैं बीसलपुर बांध के गेट
बीसलपुर बांध परियोजना के एक्शन मनीष बंसल ने बताया कि शुक्रवार से हो रही बारिश के चलते बीसलपुर बांध में पानी की आवक धीरे-धीरे बढ़ने लगी है। रात को ही गंभीरी और जेतपुरा बांध के 1-1 गेट रात को 1-1 मीटर खोल दिए गए हैं। अब ये पानी आते ही बीसलपुर बांध के गेट खोलने पड़ेंगे। संभवत दोपहर बाद या शाम तक आवश्यकता अनुसार गेट खोले जाएंगे। इसकी तैयारियां की जा रही है। अभी त्रिवेणी का गेज 3.70 मीटर है। इससे पानी की आवक बीसलपुर बांध में और बढ़ेगी।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.