जोधपुर RIFF की शुरुआत: मेहरानगढ़ में गूंजी चंग की थाप, ढोलक की धुन पर नाचे टूरिस्ट



जोधपुर23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शाही बगीचा, चांदनी रातों के बीच फोक जैज़ व क्लासिकल संगीत के साथ देर रात व अल सुबह संगीत की धुनों की स्वरलहरियों में मारवाड़ की जड़ों में बसी कला से देसी-विदेश पर्यटक रूबरू हो रहे है। जोधपुर राजस्थान इंटरनेशनल फोक फेस्टिवल रिफ में इन दिनों शहर अपने हैरिटेज के साथ रॉयल टच में जड़ों से जुड़े संगीत से पर्यटकों को रुबरु करवा रहा है। पांच दिवसीय इस कार्यक्रम के दूसरे दिन जोधपुर के मेहरानगढ़, जसवंत थड़ा में कई कार्यक्रम हुए। रिफ में इन कार्यक्रमों का सिलसिला देर रात से अलसुबह लगातार 10 अक्टूबर तक चलेगा।

सुर्य नगरी में सूर्य की पहली किरण के साथ मारवाड़ के ताजमहल कहे जाने वाले जसवंत थड़े पर जब कलाकारों ने लोक संगीत के सुर बिखेरें मानों फिजाओं में रंगत घुल गई। भल्लु राम व तेजाराम मेघवाल की टीम ने झांझ, तंदुरा कामायचा व ढोलक की प्रस्तुति से देसी विदेशी मेहमान मंत्र-मुग्ध हो गए।

अल सुबह मेघवाल ऑफ मारवाड़ की प्रस्तुति के बाद मेघालय की जनजातीय लोक संगीत खासी से खासी म्यूजिशियन डॉ मेबलांम्फांग लिंगदोह ने रुबरु करवाया। खासी म्यूजिशियन पहली बार रिफ में हिस्सा ले रहे है। 2007 से शुरु हुए इस आयोजन में अब तक देश विदेश के कई फोक म्यूजिक व म्यूजिशियन को मौका मिला है। इस बार खासी जनजाती के इस संगीत व इंस्टूमेंट की लोगों ने जानकारी ली। सुबह 11:30 से दोपहर 1:30 बजे तक चले इन रेजिडेंस कार्यक्रम में चोखेलाव बाग में कस्टोडियन कल्चर का इंटरेक्टिव सेशन चला। आयोजन के दूसरे दिन मेहरानगढ दुर्ग के दौलत खां चौक में मालाणी संस्कृति कला केंद्र के कलाकारों ने गैर नृत्य की प्रस्तुति दी। इस दौरान तेरहताली व कालबेलिया का आयोजन भी हुआ।

लीविंग लीजेंड्स
इस कार्यक्रम में पद्म श्री अनवर और लाखा मांगणियार की प्रस्तुती ने सभी को लुभाया। मुरली पर पेंपा मांगणियार ने जबरदस्त प्रस्तुति दी। मेहरानगढ फोर्ट में धन्ना भीया की छतरी पर इस कार्यक्रम में खड़ताल की खनक ने सभी को झूमने पर मजबूर किया। मांगणियार के वाद्य यंत्र कामायचा की तान ने हर किसी को मोह लिया।

रिफ डॉन में मेघालय के फोक संगीत खासी की होगी प्रस्तुति

इसके तहत कल शनिवार को सुबह 5 बजकर 30 मिनट पर जसवंत थड़ा में मेघालय के पारम्परिक संगीत के साथ ए खासी ‘डॉन’ महत्त्वपूर्ण आयोजन होगा ।9 व 10 अक्टूबर को मधप्रदेश की मालवी लोक शैली में सबद और निगुण भजन और कबीर वाणी का आयोजन होगा। इन रेजीडेंस में लंगा व मांगनियार संगीत परम्पराओं से रूबरू करवाएंगे।

इस बार मैक्सिकन डांस प्रोडक्शन कम्पनी के संस्थापक, कोरियोग्राफर और मूविंग बॉडर्स जैसील नैरी फेस्टिवल में हिस्सा ले रहे है। कार्यक्रम में मैक्सिकन डांस के साथ कालबेलिया का फ़युजन नजर आएगा। जैसील नैरी कालबेलिया जनजाति की प्रतिष्ठित और पारम्परिक कलाकार आशा सपेरा के साथ अपनी प्रस्तुति देंगे।

पहली बार आयोजित होगा ‘सीटाडेल्स ऑफ द सन

‘सीटाडेल्स ऑफ द सन में राजस्थान और आयरलैण्ड के कलाकार अपनी संस्कृति का आदान-प्रदान जोधपुर रिफ की संगीत परम्परा को आगे बढ़ायेंगे। यह प्रस्तुति भी इस आयोजन में प्रथम बार होगी।

रिफ रसल सेक्साफोनिस्ट राइस सबेस्टियन और ड्रमर जहांगीर की प्रस्तुति रिफ रसल में इस वर्ष बॉम्बे ब्रास के सेक्साफोनिस्ट राइस सबेस्टियन और ड्रमर जहांगीर (जेजे) अपनी प्रस्तुति से रिफ रसल और मध्य रात्रि में दर्शकों को रोमांचित करेंगे।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.