जालोर में संत हनीट्रैप का शिकार: अनजान महिला ने बातों में फंसाया; 5 लाख वसूले, और पैसे नहीं देने पर वीडियो शेयर



सांचौर33 मिनट पहले

एक अनजान महिला से वीडियो कॉल करना एक संत को भारी पड़ गया। करीब तीन साल पहले इसे सांचौर के पास पुर गांव में जंभेश्वर भगवान के मंदिर में ग्रामीणों ने पूजा पाठ का जिम्मा देकर संत बनाया था। शुरू में सब सही चलता रहा, लेकिन एक दिन अचानक उसके मोबाइल पर एक अनजान महिला का वीडियो कॉल आया। इस महिला ने महज कुछ सैकंड की बातों में ही उसे फंसा लिया और वह हनीट्रैप का शिकार हो गया।

महिला ने वीडियो कॉल के दौरान ही संत की ओर से की गई अश्लील हरकतों को रिकॉर्ड कर लिया। इसमें दो लोग और शामिल थे। बाद में इसी वीडियो को दिखाकर इन लोगों ने संत से पांच लाख रुपए ले लिए। पिछले तीन साल से ये संत को ब्लैकमेल करते रहे और इनकी डिमांड भी बढ़ती गई। जब संत ने दोबारा मांगे एक लाख रुपए नहीं दिए तो इन लोगों ने उसके वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर कर दिए। आखिरकार 13 अक्टूबर को संत ने महिला के खिलाफ सांचौर थाने में मामला दर्ज करवाया। हालांकि महिला ने भी संत के खिलाफ करड़ा थाने में रेप का मामला दर्ज करवाया है, लेकिन भास्कर ने इसकी पड़ताल की तो चौंकाने वाली बातें सामने आई।

सांचौर के पास पुर गांव में जंभेश्वर भगवान के मंदिर के संत सुरजनदास को हनीट्रैप में फंसा कर एक महिला ने 5 लाख रुपए वसूल लिए और 5 और नहीं देने पर सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर दिया।

पढ़िए पूरी कहानी

हरियाणा के सदलपुर का रहने वाला एक युवक संजय 2019 में शिवदास शास्त्री के सानिध्य में रुडकली जोधपुर में संत बना। उसका नया नाम रखा गया सुरजनदास। इसके बाद वह सांचौर के पास पुर गांव में जंभेश्वर भगवान के मंदिर में रहने लगा। मई- जून 2020 में सुरजनदास के फोन पर एक महिला का वीडियो कॉल आया। दोनों में बात हुई। इस बीच महिला ने उससे अश्लील बातें शुरू कर दी। इस बातचीत के दौरान ही सुरजनदास अकेले में अश्लील हरकतें करता है।

महिला इसे रिकॉर्ड कर लेती है और फिर अपने दो साथियों मानाराम और हिम्मतदास के साथ मिलकर उसे ब्लैकमेल करती है। ये लाेग वीडियो शेयर करने की धमकी देकर सुरजनदास से पांच लाख रुपए ऐंठ लेते हैं। सुरजनदास ने सोचा कि मामला यही खत्म हो गया, लेकिन कुछ दिन बाद ही महिला उसे वापस फोन कर एक लाख दस हजार रुपए की डिमांड की। सुरजनदास ने पांच लाख रुपए भी दूसरों से कर्ज लेकर दिए थे। अब उसके पास एक रुपया नहीं था तो उसने यह रकम देने से इनकार कर दिया। इसके बाद महिला और उसके साथी कांफ्रेस के जरिए बार बार उसे फोन करने लगे। आखिरकार, सुरजनदास ने कहा कि वीडियो शेयर करना है तो कर दो, लेकिन अब मेरे पांच लाख रुपए भी वापस दो। सुरजनदास इनके सामने गिड़गिड़ाता रहता, रोने लगता और मरने की बात कहता, लेकिन इन लोगों ने उसके वीडियो शेयर कर दिए।

अब पढ़िए महिला, उसके साथियों और सुरजन दास के बीच क्या बातें हुई

पहली रिकॉर्डिंग

महिला : कहां से बात कर रहा है
सुरजनदास : घर पर हूं।
महिला : बात कर मानाराम से (काॅन्फ्रेंस में मौजूद)
मानाराम : दस हजार रुपए भेजे क्या?
सुरजनदास : मानजी बोल रहे हो
मानाराम : यह बोल रही है पैसों की जरूरत है
सुरजनदास : (गिड़गिड़ाते हुए) जरूरत है तो मैं क्या करू, मुझे क्यों परेशान कर रहे हो, क्यों मार रहे हो। मार दो मुझे, मुझे जीने दो या नहीं जीने दोगे, मेरे पांच लाख का कर्जा करवा दिया। मैं एक रुपए का आदमी नहीं हूं। मुझे मारोगे क्या?
महिला : क्या बोला
सुरजनदास : लोगों से मांगना नहीं सीखा, उससे पहले आपने कर्जा करवा दिया। मुझे मार दो, वीडियो वायरल करना है तो कर दे, लेकिन मेरे पास पैसे नहीं हैं।
महिला : नाटक मत कर
सुरजनदास : नाटक नहीं कर रहा हूं। आपको वीडियो वायरल करना है तो मेरे पांच लाख वापस दे दो और वीडियो वायरल कर दो। मुझे पैसों के लिए फोन मत करना।
मानाराम : इसके पास पैसे कहां है। इसने ठिकाने लगा दिए।
सुरजनदास : मैंने लोगों का कर्जा किया है। मेरे पांच लाख वापस दे, मैं लोगों का कर्जा उतार देता हूं। तू वीडियो वायरल कर देना, लेकिन मेरे पांच लाख वापस देकर वायरल करना। मुझे मार मत।

दूसरी रिकॉर्डिंग

महिला : हेलो
सुरजनदास : हां, मुझे बार बार क्यों फोन कर रही है, क्या है।
महिला : क्यों?
सुरजनदास : क्यों? क्या है अब
महिला : बोली है वो पूरी कर। मुझे क्या पता तेरे पास क्या है।
सुरजनदास : मुझे मारना है तो बोल, मैं मर जाता हूं। क्यों मार रही है।
महिला : मैं क्यों बोलूं की मर जा, नंबर ब्लैकलिस्ट में डाले हैं। मर या रह, मुझे क्या करना है।
सुरजनदास : मैंने बोल दिया, मेरे पास पांच लाख थे मैंने दे दिए। यह भी लोगों से कर्जा करके दिए हैं। समाज की इज्जत के लिए पांच लाख दे दिए। बाई मुझे माफ कर दे। गिड़गिड़ाते हुए… तू मुझे मार दे, तू बोले तो मैं आज गांव छोड़ कर चला जाता हूं। रुपयों के लिए मुझे फोन मत कर और ना ही लोगों को फोन कर।
महिला : बोली है वो पूरी करनी पड़ेगी।
सुरजनदास : मैंने तुझे देखा तक नहीं। पैसे लेने आई जब मैंने पहली बार देखा। मैंने तेरे साथ गलत कुछ नहीं किया।
महिला : (बहुत देर गालियां निकालने के बाद) मुझे पैसे चाहिए। पैसे देने पड़ेंगे।
सुरजनदास : (गिड़गिड़ाते हुए) मत मार, मेरे पास पैसे नहीं हैं। पिछली बार पांच लाख रुपए उधार लेकर दिए हैं। वो पैसे भी लोग मुझसे मांग रहे हैं। मैं अब तंग हो चुका हूं। मैं तेरे घर आ रहा हूं। मुझे मेरे पांच लाख रुपए वापस दे दे। रोते हुए बोलता है कि जो लोग मुझमें पैसे मांग रहे है उनको देकर बोल देता हूं मेरे से गलती हो गई है। अब गांव छोड़ कर जा रहा हूं।

तीसरी रिकॉर्डिंग

(सुरजनदास के पास किसी का फोन आता है)
सुरजनदास : कौन है
अज्ञात आदमी : सुरजन दास, मामला निपटाओ, क्यों परेशान कर रहे हो किसी को
सुरजनदास : मैं किसी को दुख नहीं दे रहा हूं। मेरे पास पांच लाख रुपए थे, मैंने दे दिए, (गिड़गिड़ाते हुए) मुझे मत मारो, मुझे मत मारो, मैं मर जाऊंगा।
अज्ञात आदमी : तुझे कोई नहीं मारेगा। अब एक बात बोलूं, मेरी बात सुन, पांच लाख रुपए भी चले गए और बेइज्जती भी होगी। ऐसा उल्टा काम एक लाख के लिए क्यों कर रहा है।
सुरजनदास : मेरी बेइज्जती करते हो तो मेरे पांच लाख वापस देकर करना, ऐसे ही मत करना।
अज्ञात आदमी : वापस दे, ऐसा क्या तूने घोड़ी बेची है। भोली बात क्या कर रहे हो, आज दिन तक पैसे वापस दिए हैं। ऐसा कहीं सुना है क्या?
सुरजनदास : मेरे पास एक ही बात है। मेरे पास एक पैसा नहीं है।
अज्ञात आदमी : यह लास्ट फोन है। मैं और मानाराम आपकी रेंज से बाहर जा रहे हैं। आज के बाद हमे कुछ मत बोलना.. आप जानो और वह (महिला के लिए) जाने, हम अंदर बाहर नहीं है। कल अगर आप बोलोगे कि मैंने पैसे दिए और वीडियो लीक हो गया है तो हमारी कोई जवाबदारी नहीं है।
मानाराम : एक लाख दस हजार रुपए देते तो हम फोन तुड़वा देते।
सुरजनदास : चार पांच दिनों मुझसे जितनी व्यवस्था हुई उतने पैसे मैंने दे दिए। 5 लाख रुपए की व्यवस्था होते ही मैंने आपको फोन करके दिए हैं।
मानाराम : टाइम आगे का देना है तो भी बताओ
सुरजनदास : मेरे पास एक पैसा नहीं है।
मानाराम : कांफ्रेस में शामिल महिला से बोलने के लिए कहता है
महिला : आप बात कर रहे तो तब तक में क्यों बोलूं
अज्ञात आदमी : वो पैसे कहां है।
महिला : मेरे पास पड़े हैं। वापस क्यों दूं, क्या इसने पाडी बेची है। क्या प्रूफ है कि तीनों चारों के पास की मुझे पैसे दिए।
अज्ञात आदमी : तेरे पास क्या प्रूफ है।
महिला : मेरे पास सब प्रूफ है। बिना प्रूफ बात नहीं करती हूं।
अज्ञात आदमी : वीडियो तो डिलीट कर दिए। अब तेरे पास कहां है।
महिला : वापस अपलोड होते हैं। फिर गाली निकालती है।
मानाराम : ऐसे मत कर।
महिला : तू भी चुपचाप बैठ, वरना तेरे भी ऐसा कर दूंगी।
मानाराम : मेरे वीडियो बना लिए क्या।
महिला : बनाए नहीं हैं तो क्या, बना लूंगी।
मानाराम : इसके पास पैसे नहीं है क्या करना है।
महिला : मैंने आपको बता दिया। बार-बार क्या बताऊं, अपलोड करने हैं। सब सिस्टम है मेरे पास, मैंने बोल दिया।
अज्ञात आदमी : सुरजनदास
सुरजनदास : क्या बोलूं, मेरे पास बोलने के लिए कुछ नहीं हैं। मैं मर चुका हूं। पांच लाख की मेरी बात हुई थी और उतने में दे चुका हूं। अब मेरे पास एक रुपया नहीं है देने के लिए।
अज्ञात आदमी : 5 क्या 25 लाख भी देने पड़ते हैं।
महिला : गालियां निकालते हुए। शादी करते तो कितना खर्चा आता है।
सुरजनदास : सुन मैंने तो सिर्फ तेरे से बात की है। ना में कभी मिला और ना ही मैंने कभी आपको देखा था। जब तू पैसे लेने के लिए आई जब पहली बार मेने आपको देखा था।
अज्ञात आदमी और मानाराम गलियां निकालते हुए हंसते हैं।
फिर अज्ञात आदमी महिला को बोलता है की दोनों की गलती बराबर है।
महिला : पहले एक को निपटाओ, बाद में दूसरा देखें।
सुरजनदास : मेरा तो इतना ही कहना है मेरे पास एक पैसा नहीं हैं। वीडियो वायरल हुआ तो मैं मर जाऊंगा।
महिला और अज्ञात आदमी : मरने का डर मत बता। समझौता कर लो, मरना मत।

ब्लैकमेल का मामला दर्ज कराने पर रेप का आरोप

12 अक्टूबर की शाम वायरल वीडियो के बार लोगों ने फोन कर सुरजनदास को बताया। लोगों की समझाइश के बाद उसने 13 अक्टूबर को महिला, मानाराम के खिलाफ ब्लैकमेल करने का मामला दर्ज कराया गया। एक दिन बाद 14 अक्टूबर को महिला ने सुरजनदास के खिलाफ जालोर के करड़ा थाने में दुष्कर्म करने का मामला दर्ज कराया। मामले को लेकर 16 को सुरजनदास के बयान दर्ज किए गए।

कौन हैं आरोपी

इस पूरे मामले तीन किरदार हैं जो संत बने सुरजनदास को हनी ट्रेप में फंसाकर रुपए एंठ लेते हैं और बाद में ज्यादा रकम की मांग करते हैं। – पहली महिला खुद जिसने वीडियो कॉल किया और अपनी बातों से सुरजनदास को फंसाया। इस दौरान सुरजनदास में अश्लील हरकतें की तो उन्हें स्क्रीन रिकॉर्ड कर लिया। इस रिकॉर्डिंग के जरिए ही वह सुरजनदास को ब्लैकमेल करती रही। – दूसरा आरोपी मानाराम बिश्नोई है। जो सिवाड़ा में स्थित है। पिछले 10 साल से संदिग्ध गतिविधियों में लिप्त है। तारकोल (डामर) व कोयला ट्रक वालों से खरीद कर आगे बेचता है। – तीसरा आरोपी हिमत दास महाराज जांभा है जो दलाली में शामिल था। जांभा मंदिर में 10 सालों से रह रहा है।

जानिए, कब क्या हुआ

– 2019 में पुर गांव के मंदिर में रहने लगा सुरजनदास – मई– जून 2020 में पहली बार महिला से फोन पर संपर्क हुआ – जुलाई 2021 में महिला, मानाराम व हिमत दास ने ब्लैकमेल कर पांच लाख मांगे – 4 जनवरी 2022 को सिवाड़ा स्थित स्वागत गेस्ट हाउस में सुरजनदास ने साढ़े चार लाख नकद दिए। एक लाख रुपए महिला के फोन पे किए। – 9 जनवरी 2022 को वापस मानाराम व महिला ने फोन किया और एक लाख दस हजार रुपए की डिमांड की। – अगस्त 2022 में एक युवक ने वीडियो दिखाकर डराया और पैसों की डिमांड की। सुरजनदास ने रकम देने से इनकार कर दिया – 12 अक्टूबर 2022 की शाम को वीडियो वायरल हुआ, लोगों ने सुरजनदास को फोन करके इसकी जानकारी दी – 13 अक्टूबर को सुरजनदास ने सांचौर थाने में महिला, मानाराम के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई। – 14 अक्टूबर को महिला ने सुरजनदास के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया।

पुलिस कर रही जांच

सांचौर थाना प्रभारी निरंजन प्रताप सिंह सुरजन दास ने मामला दर्ज करवा रखा हैं। जिसमें महिला व मानाराम पर वीडियो वायरल करने का आरोप लगाने के साथ 5 लाख वसूलने व 5 लाख रुपयों की डिमांड का आरोप हैं। इस मामले की जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.