जवाहर कला केंद्र सजी लोक नृत्यों की महफिल: नजर आई विभिन्न प्रदेशों की लोक संस्कृति की झलक, प्रस्तुतियों ने जीता दर्शकों का दिल



42 मिनट पहले

नजर आई विभिन्न प्रदेशों की लोक संस्कृति की झलक

जवाहर कला केंद्र की ओर से आयोजित लोकरंग महोत्सव का मंगलवार, 11 अक्टूबर को दूसरा दिन रहा। शिल्पग्राम में लगे राष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले में दस्तकारों के हुनर को सराहने के साथ ही आगंतुकों ने विभिन्न लोक कला प्रस्तुतियों का आनंद लिया। इधर, मध्यवर्ती में राजस्थान समेत सात राज्यों के लोक कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से लोगों का दिल जीता।

केंद्र की अति. महानिदेशक प्रियंका जोधावत ने दीप प्रज्जवलन कर की शुरुआत

अति. महानिदेशक प्रियंका जोधावत ने सरप्राइज गिफ्ट विजेताओं को दिया उपहार।

अति. महानिदेशक प्रियंका जोधावत ने सरप्राइज गिफ्ट विजेताओं को दिया उपहार।

मेले में मनोरंजक गतिविधियां

दिनभर हस्तशिल्प मेले में आगंतुकों की आवाजाही जारी रही। एक ओर जहां जादूगरी देखकर लोग रोमांचित हुए, वहीं उन्होंने बालम छोटो सो, गरासिया नृत्य, डेरु वादन और चरी नृत्य की प्रस्तुतियों का आनंद लिया। विभिन्न राजस्थानी अंचलों को समाहित करने वाले शिल्पग्राम में थपट्टम की प्रस्तुति के साथ तमिलनाडु की भव्य संस्कृति की झलक दिखाई दी।

लोक कलाकारों ने किया बालम छोटा सो पर जमकर डांस कर लोगों को खूब हंसाया

लोक कलाकारों ने किया बालम छोटा सो पर जमकर डांस कर लोगों को खूब हंसाया

शिल्पग्राम में चरी डांस का अदभुत नृत्य, सर पर चरी में आग जला कर किया नृत्य

शिल्पग्राम में चरी डांस का अदभुत नृत्य, सर पर चरी में आग जला कर किया नृत्य

म्हारो हेलो सुनो जी रामा पीर..

मध्यवर्ती में प्रसिद्ध तेरहताली नृत्य के साथ महफिल सजी। म्हारो हेलो सुनो जी रामा पीर.. गीत पर पारंपरिक नृत्य के साथ करतब देख लोग रोमांचित हुए। इसके बाद फागुन महीने में उत्तर प्रदेश में किया जाने वाला झूमर नृत्य पेश किया गया।

मध्यवर्ती में फोक डांस राजस्थान के तेरहताल से हुई शुरुआत

मध्यवर्ती में फोक डांस राजस्थान के तेरहताल से हुई शुरुआत

गरबे से दर्शाया अतिथि सत्कार

गुजराती गीतों की मधुरता, चेहरे पर हर्ष और कोरियोग्राफी में नए प्रयोगों के साथ कच्छी गरबा की प्रस्तुति दी गई। इसमें अतिथि सत्कार का संदेश दिया गया। तमिलनाडु में मांगलिक अवसरों पर होने वाले प्रसिद्ध साटेकुचीअट्टम की प्रस्तुति ने दर्शकों में ऊर्जा का संचार किया। नादस्वरम्, थविल जैसे वाद्य यंत्रों की द्रुत ध्वनि से सामंजस्य बैठाकर आंखों पर पट्टी बांधकर साटे (छड़) के साथ नृत्य किया गया। झुमुर नृत्य की पेशकश के साथ ही असम की टी-ट्राइब्स की संस्कृति को जाहिर किया गया। नवरात्र के अवसर पर मध्य प्रदेश में होने वाले नोरता नृत्य में महिषासुर मर्दिनी की झांकी दर्शायी गई। गुजरात के होली आदिवासी नृत्य के दौरान करतबों ने लोगों का ध्यान खींचा।

प्राचीन गरबा में आज कच्छ, गुजरात से आए ने कच्छी गरबा किया परफॉर्म

प्राचीन गरबा में आज कच्छ, गुजरात से आए ने कच्छी गरबा किया परफॉर्म

दिखा राजस्थानी लोक नृत्यों का वैभव

लोक संस्कृति के रंग में रंगी महफिल का समापन कालबेलिया नृत्य की प्रस्तुति के साथ हुआ। प्रसिद्ध नृत्यांगना गुलाबो सपेरा की प्रस्तुति ने राजस्थानी लोक नृत्य के वैभव को बखूबी जाहिर किया।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.