जर्मनी में आयोजित हुआ विश्व स्वास्थ्य सम्मेलन: 100 देशों से 200 से अधिक कॉर्डिनेट पहुंचे, नए ऐक्सपैरिमैंट पर चर्चा



जयपुर9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य शिखर सम्मेलन के अध्यक्ष एक्सेल प्राइस ने निम्स विश्वविध्यालय के द्वारा स्वास्थय एवं शिक्षा के क्षेत्र में दिए गए योगदान की सराहना की। कार्यक्रम में निम्स विश्वविध्यालय के चेयरमैन डॉ. बलवीर एस. तोमर के साथ स्वास्थ्य शिखर सम्मेलन के अध्यक्ष एक्सेल प्राइस भी मौजूद थे।

विश्व स्वास्थय संगठन (WHO) के तत्वाधान में बर्लिन जर्मनी में आयोजित तीन दिवसीय विश्व स्वास्थ्य सम्मलेन 16 से 18 अक्टूबर तक आयोजित किया गया। इस समिट में आने वाले समय में होने वाली महामारी के लिए किए गए नवाचार और एक्सपैरिमैंट पर चर्चा की गई। इस समिट की थीम “वैश्विक स्वास्थ्य के लिए समाधान ढूंढना” रखी गई।

इसका उद्घाटन यू. एन. के सेक्रेटरी जनरल एंटोनियो गुटेरेस, जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज, फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मानुएल मेक्रों, WHO के महानिदेशक डॉ. टेडरोस एडनॉम घेब्रेयसस ने किया। इसमें 100 से ज्यादा देशों के 2 हजार से अधिक प्रतिनिधि मौजूद थे।

उद्घाटन समारोह में जर्मन फेडरल चांसलर ओलाफ शोल्ज ने कहा की खासकर वैश्विक स्वास्थ्य के क्षेत्र में नेटवर्किंग और राष्ट्रीय सीमाओं के पार अच्छा सहयोग मायने रखता है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस कहा की हाल ही में ई महामारी से विश्व को संज्ञान लेना चाहिए एवं हमें ऐसी स्वास्थय प्रणालिया स्थापित करनी चाहिए जिसका की विश्व का हर नागरिक हकदार है।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधानोम घेब्रेयेसस ने कहा- ‘कोविड-19 महामारी ने वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को खंडित और असंगत के रूप में उजागर किया । डॉ. टेड्रोस ने इसी कड़ी में आगे बोलते हुए कहा कि पूरे विश्व को एक नए संजोते के अन्दर आना होगा उससे ही वैश्विक स्वास्थ्य को एक नए स्तर पर ले जाया जा सकता है।

कार्यक्रम में निम्स चेयरमैन ने भी हिस्सा लिया। बताया कि कोविड के लिए विशेष बजट की घोषणा की गई।

कार्यक्रम में निम्स चेयरमैन ने भी हिस्सा लिया। बताया कि कोविड के लिए विशेष बजट की घोषणा की गई।

निम्स चेयरमैन ने भी लिया हिस्सा

विश्व स्वास्थ्य शिखर सम्मेलन के अध्यक्ष एक्सेल प्राइस ने भी अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का आह्वान किया और कहा- इस समय में, हमें अभूतपूर्व तरीके से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक साथ काम करना चाहिए। इसमें जयपुर से निम्स विश्वविद्यालय के चेयरमैन डॉ. बलवीर सिंह. तोमर ने भी हिस्सा लिया।

उन्होंने बताया कि COVID 19 के बाद यह पहला वैश्विक स्तर का आयोजन है, जिसमें 100 से अधिक देशों के स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाले 2000 से अधिक लोग भाग ले रहे हैं। डॉ. तोमर ने चर्चा में बताया कि छोटी सी बीमारी को महामारी बनने से बचाने के लिए हमें जमीनी स्तर पर लोगों को शिक्षित करने की आवश्यकता है। इसी कड़ी में WHO की चीफ साइंटिस्ट डॉ. सौम्य स्वामीनाथन ने सबसे निचली कड़ी के लोगों को स्वास्थ्य संबधित सेवाओं एवं महामारी से संबंधित जानकारी के लिए WHO के द्वारा स्थापित “सोशल कम्युनिकेशन” के बारे में जानकारी दी ।

डॉ. तोमर ने बताया की जर्मन चांसलर, फ्रांस के राष्ट्रपति ने कोविड एवं आने वाली अन्य महामारी के लिए 20000 करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि के साथ महामारी फंड बनाने की घोषणा की। इसी कड़ी में बिल गेट्स एवं मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के डॉ. अध्यक्ष बिल गेट्स ने ने विश्व में पोलियो के लिए 10000 करोड़ रुपए का फंड बनाने की घोषणा की है। डॉ. तोमर ने अनेक दिपक्षीय वार्ताओं में भारत की कोविड एवं अन्य महामारियों के लिए कटिबद्धता एवं विश्व के सबसे बड़े मुफ्त कोविड वैक्सीन कार्यक्रम के बारे बताया एवं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी समेत स्वास्थ्य मंत्री श्री मनसुख मांडविया के द्वारा कोविड में किए गए नवाचार और वैक्सीनेशन की उपलब्धियों के बारे में भी बताया।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.