जमानत किसे मिली, छुटा कोंन!: रेप के मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिली थी, एक नाम के दो आरोपी होने से रिहाई तहरीर में चूक हुई, हड़कंप मचा



कोटाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो।

शहर के उद्योगनगर थानाक्षेत्र में नाबालिग से गैंगरेप पोक्सो मामले में हाईकोर्ट ने आरोपी को जमानत मिली। कोर्ट ने आरोपी की जमानत तस्दीक भी की। लेकिन FIR में अन्य आरोपियों के साथ एक नाम के दो अपराधी होने से दूसरे आरोपी की रिहाई की तहरीर बन गई। क्लेरिकल चूक होने ने जिसकी जमानत नहीं हुई वो आरोपी जेल से छूट गया। जब ये मामला सामने आया तो हडकंप मच गया। आनन फानन में नई तहरीर बनी। जिस जमानत मिली थी उसकी रिहाई हुई। जबकि गलत नाम वाले अपराधी के खिलाफ कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किए।
ये था मामला
मामले में एक अपराधी दीपक सेन व दूसरा अपराधी दीपक उर्फ दीपू था। दीपक सेन को हाईकोर्ट से जमानत मिली थी। कोटा पोक्सो कोर्ट ने जमानत तस्दीक दीपक सेन की ही की। दोनों के समान नाम होने से क्लेरिकल चूक होने से दीपक सेन की रिहाई की जगह दीपक उर्फ दीपू की तहरीर बनी। रिहाई तहरीर पर दीपक सेन की जगह जब दीपक उर्फ दीपू रिहा हुआ और दीपक सेन जेल में ही रहा। सूचना मिलने पर हाईकोर्ट के आदेश, ज़मानत दस्तावेज ओर तहरीर में मिलान हुआ। इस चूक की वजह से गलत अपराधी छूटने से सम्बंधित क्लर्क स्टाफ में हड़कम्प मच गया। रात ज़्यादा होने बुधवार को मिलान करके, नई तहरीर बनी।गलत नाम के छूटे दीपक उर्फ दीपू की गिरफ्तारी के लिये गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ।

जेल अधीक्षक परमजीत सिंह का कहना है कि जमानत कहां से हुई ये पता नहीं। दीपक सेन व दीपक मीणा दोनों की रिहाई तहरीर आई थी। दोनों छूट गए।

उधोग नगर थाना एसआई विनोद ने बताया कि गिरफ्तारी वारंट डाक में आता है। डाक रजिस्टर में चढ़ाएंगे तब देखेंगे, अभी में गश्त पर हूं। मेने डाक देखी नहीं है। मामला भी मेरी जानकारी में नहीं है। देखकर ही बता सकता हूं। इस बारें में आरोपी (हाईकोर्ट से जमानत मिलने वाले आरोपी के) वकील से भी बात करने की कोशिश की। उन्होनें जानकारी देने से इनकार कर दिया।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.