कैसे पूरा हो टारगेट: 6.78 लाख परिवार पट्टा लेने नहीं आए, इनमें 2.22 लाख को पट्टा ही नहीं दे सकते



जयपुर2 घंटे पहलेलेखक: डूंगरसिंह राजपुरोहित

  • कॉपी लिंक

सभी वंचित पट्टा लेने आएंगे तो ही होगा 10 लाख का लक्ष्य पूरा।

राजस्थान में शहरों के लिए सबसे बड़े अभियान में बड़ा झोल सामने आया है। 2 अक्टूबर 2021 से शुरू हुए प्रशासन शहरों के संग अभियान के लिए पहली बार 213 शहरों का घर-घर सर्वे कराया गया। इसमें सामने आया कि 6.87 लाख परिवारों के पास अब भी पट्टे नहीं हैं, लेकिन वे 14 माह से चल रहे अभियान में पट्टा लेने घर से निकले ही नहीं। सीएम अशोक गहलोत, यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल के आदेश पर सभी 213 शहरों में घर-घर सर्वे पहली बार 33 कलेक्टरों के सुपरविजन में निकाय टीमों से कराया गया। अब पूरी परतें खुली।

सरकार ने मार्च 2023 तक 10 लाख पट्टे देने का लक्ष्य दिया है। लेकिन सच्चाई यह है कि पट्टे से वंचित 6.87 लाख घर ही बचे हैं और उनमें भी 2.22 लाख को पट्टा नहीं दे सकते। ऐसे में शेष 4.60 लाख पूरे परिवार 100 प्रतिशत पट्टे के लिए आवेदन करेंगे तो ही सरकार का 10 लाख का लक्ष्य पूरा होगा। अब तक पूरे प्रदेश में 5.40 लाख पट्टे दिए गए हैं।

जयपुर: पट्टे देने वाले 4 निकाय, फिर भी 66 हजार पट्टे बाकी
जयपुर राजधानी है और यहां जेडीए, दो निगम और हाउसिंग बोर्ड 4 निकाय हैं, जो पट्‌टों का वितरण कर रहे हैं। इसके बावजूद अभी तक 74,277 पट्टे ही बांटे गए हैं। जयपुर में जेडीए को ही 1 लाख पट्टे वितिरत करने का लक्ष्य दिया गया है। राजधानी में कुल डेढ़ लाख पट्टे बांटने का लक्ष्य दे रखा है। जेडीए अभी लक्ष्य से करीब 33 हजार पट्टे पीछे चल रहा है। हैरिटेज नगर निगम को 20 हजार की तुलना में 4540 पट्‌टे, जयपुर ग्रेटर नगर निगम अभी तक 20 हजार की तुलना में 2356 पट्टे ही दे सका है। यानी हैरिटेज को 16 हजार और ग्रेटर निगम को साढे 17 हजार से अधिक पट्टे बांटने अभी बाकी हैं।

प्रमुख 12 जिले और उनके सर्वे कराए गए वार्ड
जयपुर 640
नागौर 460
अलवर 435
चूरू 410
भरतपुर 395
झुंझुनूं 385
सीकर 380
कोटा 300
श्रीगंगानगर 347
अजमेर 345
जोधपुर 285
भीलवाड़ा 235

सबसे अधिक जयपुर के 77,833 परिवार पट्टा योग्य नहीं
प्रदेश में 640 वार्डों के सर्वे में सामने आया कि जयपुर में सबसे अधिक 77,833 परिवार ऐसे हैं, जो कब्जा करके बसे हैं, लेकिन उनकी जमीन का पट्टा नहीं दिया जा सकता। कोटा में 14,457, अलवर में 15,525, चूरू में 10,305, गंगानगर में 10,289, जोधपुर में 3,165 घरों को पट्टा नहीं दिया जा सकता।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.