आईआईटीयन देने में राजस्थान फिर टॉप पर: आईआईटी एडमिशन में दिल्ली जोन आगे, आईआईटी बॉम्बे ने जारी की फाइनल रिपोर्ट




कोटा43 मिनट पहले

आईआईटीयन देने में राजस्थान फिर टॉप पर

जेईई-एडवांस-2022 के आर्गेनाइजिंग इंस्टीट्यूट आईआईटी-बॉम्बे ने 1076 पेजों की परीक्षा और रिजल्ट के संबंध में डिटेल रिपोर्ट जारी कर दी है। रिपोर्ट में एक बार फिर राजस्थान आईआईटी में सबसे ज्यादा एडमिशन देने वाले राज्य के रूप में सामने आया है। जेईई-एडवांस परीक्षा के इतिहास में इस साल की परीक्षा सबसे कठिन मानी जा रही है, यही कारण रहा कि कट ऑफ सबसे कम गई। एक्सपर्ट्स ने भी इस पेपर का डिफिकल्टी लेवल बहुत हाई बताते हुए इसे टफेस्ट बताया था। इसके बावजूद भी राजस्थान और कोटा ने अपनी श्रेष्ठता साबित की है।रिपोर्ट के अनुसार देश के समस्त राज्यों को 7 आईआईटी जोन में विभाजित किया गया था।

इन सभी जोन में कुल 16 हजार 635 विद्यार्थियों को आईआईटी में सीट आवंटित की गई। इनमें आईआईटी दिल्ली जोन से सर्वाधिक 3764 विद्यार्थी इस वर्ष आईआईटी में प्रवेश ले चुके हैं। आईआईटी दिल्ली जोन में राजस्थान सबसे बड़ा राज्य है। इसके अलावा दिल्ली, जम्मू-कश्मीर व लद्दाख शामिल है। ऐसे में राजस्थान ही एकमात्र ऐसा राज्य है जिसमें सबसे अधिक विद्यार्थी आईआईटी में चयनित हुए हैं। राजस्थान से चयनित विद्यार्थियों में कोटा से सबसे अधिक विद्यार्थियों ने आईआईटी में प्रवेश प्राप्त किया है। करियर काउंसिलिंग एक्सपर्ट अमित आहूजा ने बताया कि आईआईटी बॉम्बे द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार 1 लाख 55 हजार 538 विद्यार्थियों ने जेईई-एडवांस परीक्षा दी, इनमें से 38296 विद्यार्थी काउंसिलिंग में शामिल हुए। इन विद्यार्थियों ने 47 लाख 33 हजार 894 आईआईटी-एनआईटी में प्रवेश के लिए चॉइस भरी गई।

किस जोन से कितने आईआईटीयन

आहूजा ने बताया कि इस वर्ष कुल आईआईटी में चयनित 16635 विद्यार्थियों में सबसे अधिक विद्यार्थी आईआईटी दिल्ली जोन के 3764, दूसरे नम्बर पर आईआईटी मद्रास जोन के 3301, तीसरे पर आईआईटी बॉम्बे जोन के 2922, चौथे पर आईआईटी कानपुर जोन के 2055, पांचवें पर आईआईटी भुवनेश्वर जोन के 1830, छठे पर आईआईटी रुड़की जोन के 1713 तथा सबसे कम सातवें नम्बर पर आईआईटी गुवाहाटी जोन से 1050 विद्यार्थी आईआईटी में चयनित हुए।

3310 छात्राएं बनेंगी आईआईटीयन

आहूजा के अनुसार इस वर्ष जेईई-एडवांस क्वालीफाई कर कुल 3310 छात्राओं ने आईआईटी में प्रवेश लिया, जिसमें 34 छात्राएं प्रिप्रेटरी से आईआईटी पहुंची। कुल 3276 सुपर न्यूमटिक सीटों को मिलाकर फीमेल पूल से आईआईटी सीटें आवंटित की गई। इसके अतिरिक्त 13325 विद्यार्थी जेंडर न्यूट्रल पूल से आईआईटीयन बने। इनमें से 68 विद्यार्थी प्रिप्रेटरी से दाखिल हुए। प्रिप्रेटरी लिस्ट का अर्थ एससी-एसटी व दिव्यांग वर्ग में आईआईटी की मिनिमम कट ऑफ के अतिरिक्त अलग से प्रिप्रेटरी कट ऑफ जारी कर शामिल किया जाता है ताकि इन वर्गों की सीटें खाली नहीं रहें।

खबरें और भी हैं…



Source link


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
khabarplus

0 Comments

Your email address will not be published.